महात्‍मा गांधी के नाम पर दायर हुई याचिका, कोर्ट ने सुना दी सजा

0

नई दिल्ली। लोगों के हित में डाली जानी वाली याचिका पर कोर्ट बहुत ही संजीदगी से विचार करता है और उस पर फैसले भी सुनाता है। दिये फैसले पर सरकार को मानाना ही पड़ता है। लेकिन एक सख्‍स ने मद्रास हाईकोर्ट ने महात्मा गांधी के नाम के आगे से ‘महात्मा’ शब्द को हटाने के लिए जनहित याचिका दायर किया। इस पर कोर्ट ने एक्‍शन लेते हुए याचिकाकर्ता पर 10 हजार का जुर्माना ठोक दिया। याचिका दायर करने वाले ने महात्मा शब्द लिखे जाने पर सावल पूछे थे।

इस पर कोर्ट में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस एम सुंदर की पीठ ने कहा कि इस तरह की जनहित याचिका कोर्ट का समय नष्‍ट करती है। साथ ही सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कहा गया है कि यह ऐसा सवाल करना उचित नहीं है। वहीं सूत्रों के मुताबिक कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी में शोधार्थी एस मुरुगनाथम नामक व्‍यक्‍ति ने कोर्ट में यह याचिका दायर किया था। सवाल में मुरुगनाथम ने नोट पर ‘महात्मा’ शब्द लिखे जाने पर आपत्ति जताते हुए इसकी वैधता का सवाल उठाया था। साथ ही कहा कहा था कि कोर्ट नोट से महात्मा शब्द हटाने के लिए सरकार को आदेशित करे।

यह भी पढ़े- जम्म-कश्मीर : मुठभेड़ में सेना का जवान शहीद, एक आतंकी को भी मार गिराया

हाईकोर्ट ने इस मामले पर गहराई से सुनवाई करते हुये कहा कि यह जनहित का मामला नहीं है। साथ ही कोर्ट ने इस याचिका पर किसी भी तरह से अन्‍य कोई भी फैसला नहीं दिया। कोर्ट ने कहा कि इस तरह की याचिकाएं कोर्ट का बहूमुल्य समय बर्बाद करने का एकमात्र जरियां है और कुछ नहीं। कोर्ट याचिकाकर्ता पर कोर्ट का समय बर्बाद करने के लिए 10 हजार का जुर्माना लगाया है,जो हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार ऑफिस में जमा किया जायेगा।

loading...
शेयर करें

आपकी राय