केंद्र सरकार के खिलाफ ममता का बड़ा फैसला, ‘मोदी केयर’ योजना से बाहर रहेगा पश्चिम बंगाल

0

कोलकाता। पं. बंगाल की ममता सरकार और केंद्री की मोदी सरकार के अक्सर किसी न किसी मुद्दे को लेकर अनबन लगी रहती है। फिर चाहे वो नोटबंदी का मामला हो या फिर जीएसटी का, ममता सरकार हमेशा मोदी सरकार को विरोध करती आई हैं। एक बार फिर ममता और मोदी सरकार में ठन गई है। केंद्रीय बजट में पेश की गई नैशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम को पश्चिम बंगाल में लागू किए जाने से सीएम ममता बनर्जी ने इनकार कर दिया है।

नैशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम

इस स्कीम के लिए 40 फीसदी रकम राज्यों को देनी है

ममता बनर्जी ने कहा, हम मेहनत से कमाए गए संसाधनों को इस योजना में अपनी हिस्सेदारी देने के लिए खराब नहीं करने वाले हैं। इस स्कीम के लिए 40 फीसदी रकम राज्यों को देनी है। उन्होंने कहा कि सवाल ये उठता है कि राज्य सरकारे ओक कार्यक्रम के लिए पैसा क्यों खर्च करे, जब राज्य सरकार के पास पहले से ही ऐसा कार्यक्रम है। राज्य के पास अपने साधन है वो अपनी योजना चलाएंगे।

ममता ने दी मोदी सरकार को धमकी

इतना ही नहीं, ममता बनर्जी ने केंद्र पर विभिन्न योजनाओं के लिए पैसा रोकने का आरोप लगाते हुए धमकी दी कि यदि नरेंद्र मोदी नीत सरकार ने अपनी ‘जन विरोधी’ नीतियां नहीं बदलीं तो वह उसके खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू करेंगी। उन्‍होंने कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार ने एकीकृत बाल विकास सेवाओं सहित किसानों, गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों से संबंधित अन्य विकास कार्यक्रमों के लिए अपना 90 प्रतिशत कोष रोक दिया है।

जानिए क्या है ‘मोदी केयर’ योजना

आम बजट पेश करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के नाम पर घोषित ओबामा केयर के जवाब में दुनिया के सबसे बड़े हेल्थकेयर स्कीम राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का ऐलान किया था। जिसे मोदी केयर का नाम दिया जा रहा है। नैशनल हेल्थ प्रॉटेक्शन स्कीम (राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना) के तहत अब 10 करोड़ गरीब परिवारों के लिए सालाना 5 लाख रुपये के स्वास्थ्य बीमा (हेल्थ इंश्योरेंस) मिलेगा।

loading...
शेयर करें