हिंसक प्रदर्शनों पर बोलीं मायावती-इससे बसपा का कोई लेना-देना नहीं, दोषियों के खिलाफ हो कार्रवाई

0

लखनऊ। SC/ST एक्ट में बदलाव के विरोध में देशभर में हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। देश के कई राज्यों से आगजनी, तोड़फोड़ और मौतों की भी खबर है। यूपी में भी ये प्रदर्शन हिंसक हो चले हैं। इसी बीच बसपा सुप्रीमों मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस कर अपनी सफाई पेश की है।

मायावती

बसपा सुप्रीमों मायावती ने एक बयान जारी कर कहा है कि इस हिंसा से बसपा का कोई लेना देना है। बिना वजह उनकी पार्टी का नाम घसीटा जा रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ असामाजिक तत्व इस आन्दोलन को हिंसक रूप देने में लगे हुए हैं साथ ही उन्होंने पुलिस प्रशासन से ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है उन्होंने कहा कि इन लोगों की आड़ में दलित और पिछड़े लोगो को निशाना न बनाया जाए। यदि ऐसा होता है तो बसपा चुप नहीं बैठेगी।

बसपा मुखिया ने मोदी सरकार पर दलित विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्यों में दलितों और पिछड़ा वर्ग की उपेक्षा की जा रही है। ये वर्ग सरकार से नाराज है। वह उनकी कथनी और करनी में फर्क का परिणाम है।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के इस कानून में बदलाव के बाद अब शीर्ष अदालत के फैसले के बाद अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) समुदाय से जुड़े मामलों में सरकारी अधिकारियों को गिरफ्तार करने से पहले सक्षम विभाग/अधिकारी की मंजूरी जरूरी हो गई है।

आपको बता दें कि इससे पहले SC/ST एक्ट में कड़े कानून की व्यवस्था की गई थी। इसके तहत शिकायत मिलते ही कार्रवाई और गिरफ्तारी का प्रावधान है। साथ ही इसमें आरोपी के जमानत का कोई प्रवधान नहीं है। वर्ष 1989 में दलितों और आदिवासियों को अत्याचार से बचाने के लिए इस कानून को अमल में लाया गया था।

loading...
शेयर करें