नीतीश के मंत्री ने कहा- तेजस्वी यादव के लिए नहीं आए थे 40 हजार शादी के प्रस्ताव, झूठी थी खबर

0

पटना: वर्ष 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में बिहार में महागठबंधन सरकार सत्ता पर आसीन हुई थी और राजद मुखिया लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी यादव को उपमुख्यमंत्री का पद दिया गया था। उस वक्त उन्हें सबसे आकर्षक कुआंरा नेता करार दिया गया था। उस वक्त दावा किया जा रहा था कि उनकी शादी के लिए 40 हजार से ज्यादा प्रस्ताव आए हैं। लेकिन अब जब उनकी पार्टी सत्ता में है तो बिहार सरकार के एक मंत्री ने उस वक्त तेजस्वी यादव की शादी के विषय में किये जा रहे दावे को भी झूठा करार दिया है।

दरअसल, जदयू-भाजपा गठबंधन वाली बिहार सरकार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने तेजस्वी प्रसाद यादव को 40,000 से ज्यादा शादी का प्रस्ताव प्राप्त होने की बात को गलत करार दिया है। उन्होंने यह बयान बिहार विधानसभा में जारी बजट सत्र के दौरान विपक्ष द्वारा खुद पर किये जा रहे हमले के जवाब में दिया।

बिहार विधानसभा में उनकी एक मांग के दौरान जब राजद विधायकों ने नंदकिशोर यादव को जुमलेबाज बताया तो उन्होंने कहा कि पथ निर्माण मंत्री के तौर इस विभाग के वाट्सएप और टोल फ्री नंबर जिनके बारे में अक्टूबर 2016 में झूठ का सहारा लेते हुए राजद की ओर से तेजस्वी की छवि बनाने के उद्देश्य यह प्रचार किया गया था कि इन फोन नंबर पर उनके लिए 40 हजार शादी के प्रस्ताव प्राप्त हुए जबकि विभाग से जानकारी प्राप्त करने पर यह पता चला कि उन्हें एक भी ऐसा प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ था ।

आपको बता दें जब तेजस्वी यादव सूबे के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे, तब उन्होंने सडकों लेकर लोगों से शिकायत प्राप्त करने के लिए टोल फ्री नंबर जारी किए गए ​थे। बताया गया था कि उन नंबरों पर 47,000 प्राप्त हुए संदेशों में से लगभग 44,000 शादी के (तत्कालीन विभागीय मंत्री तेजस्वी यादव के लिए) प्रस्ताव और केवल करीब 3000 संदेश सड़कों की खराब हालत से संबंधित थे।

loading...
शेयर करें