राज ठाकरे के गुंडे कार्यकर्ताओं ने गरीब फेरीवालों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, की तोड़फोड़

0

मुंबई। महाराष्ट्र में एक बार फिर राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। मनसे से जुड़े होने का दावा कर रहे कुछ लोगों ने आज यहां दो दर्जन से ज्यादा अवैध फेरीवालों को रेल ब्रिज से पीट-पीटकर भगा दिया। दरअसल, राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने 20 अक्टूबर तक सभी अवैध फेरीवालों को रेलवे ब्रिजों से हटने का फरमान सुनाया था। इस फरमान की अनदेखी करने वाले फेरीवालों को शनिवार को मनसे कार्यकर्ताओं के गुस्से का शिकार होना पड़ा।

यह घटना कैमरे में कैद हो गई है

यह घटना कैमरे में कैद हो गई है। पुलिस से जब इस संबंध में संपर्क किया गया तो उसने बताया कि अभी तक किसी ने भी इस घटना की शिकायत नहीं दर्ज कराई है। मनसे की ठाणे शहर इकाई के अध्यक्ष अविनाश जाधव और पार्टी के स्थानीय युवा शाखा के प्रमुख संदीप पंचांगे के नेतृत्व में ये कार्यकर्ता वहां पहुंचे थे।

मनसे उनसे अपने तरीके से निपटेगी

बता दें एलफिंस्टन स्टेशन हादसे के बाद (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने हादसे के लिए दूसरे प्रांतों के लोगों को जिम्मेदार ठहराया था। हादसे के बाद जो जांच रिपोर्ट आई उसमें कहा गया कि ब्रिज पर अनधिकृत रूप से कब्जा किए फेरीवाले भी इस हादसे की एक वजह थे। ठाकरे ने मुंबई के हॉकर्स को भी धमकी देते हुए कहा था कि अगर स्टेशन ब्रिज पर अवैध कब्जा जमाने वाले हॉकर्स एक निश्चित समय सीमा में हट जाएं। वह ऐसा नहीं करेंगे, तो मनसे उनसे अपने तरीके से निपटेगी।

क्या बोले थे राज ठाकरे

राज ने कहा था कि सवाल किसी को बेरोजगार करने का नहीं है लेकिन जो रेलवे के यात्री टैक्स भरते हैं यदि अवैध तरीके से स्टेशनों पर फेरीवालों के बैठने से उनको चलने में मुश्किल होती है तो यह भी उचित नहीं है। उन्होंने कहा था कि हम यह क्यों भूल जाते हैं कि फुटपाथ पर चलने वाले लोग भी मराठी हैं।

loading...
शेयर करें

आपकी राय