चलती ट्रेन से कूदने पर मजबूर हुईं मां- बेटी, चार मनचलों ने की हैवानियत

0

कानपुर। महिलाएं कहीं भी सुरक्षित नहीं है, फिर चाहे वो बस हो, ट्रेन हो या फिर प्लेन। उनकी इज्जत हमेशा दांव पर लगी रहती है, कोई भी आए और आकर लूट ले। हैरानी की बात ये है कि वारदात पर मौजूद लोग भी साथ नहीं देते और चुपचाप सब कुछ देखते रहते हैं।

ट्रेन में बैठे पुलिसकर्मी ने भी नहीं लिया कोई एक्शन

ऐसी ही एक घटना कानपुर में देखने को मिली, ट्रेन से सफर कर रही मां- बेटी को कुछ मनचलों ने दबोच लिया। उन्होंने मां- बेटी को इतना परेशान किया कि दोनों को चलती ट्रेन से कूदना पड़ा। दरअसल, पीड़ित महिला अपनी बेटी के साथ जनरल टिकट लेकर दिल्ली-हावड़ा स्पेशल ट्रेन से दिल्ली रही थी। जैसे ही ट्रेन हावड़ा से निकली ट्रेन में सवार मनचलों ने महिला और उसकी बेटी के साथ छेड़खानी शुरू कर दी। इस बात की शिकायत ट्रेन में बैठे पुलिसकर्मियों से भी की गई, लेकिन पुलिस ने दोनों की कोई मदद नहीं की। जिससे परेशान होकर महिला अपनी बेटी के साथ कानपुर स्टेशन के पास कूद गई। वहीं इस हादसे में दोनों को सिर में गंभीर चोटें आई हैं।

मनचलों को धक्का देकर ट्रेन से कूद गईं मां- बेटी

पीड़ित महिला का आरोप है कि बोगी में तीन से चार मनचले मौजूद थे। उन्होंने लड़की से छेड़खानी शुरू कर दी। महिला ने जब विरोध किया तो वे नहीं माने। उन्होंने सिपाही से मामले को लेकर शिकायत की, लेकिन वे फिर भी बेखौफ नजर आएं। इसी बीच बेटी टॉयलेट की तरफ गई तो थोड़ी ही देर बाद बेटी की चीख सुनाई दी, जिसके बाद वह भाग कर बाथरूम तक पहुंची। वहां मनचलों ने लड़की को दबोच लिया। ट्रेन का गेट खुला हुआ था। महिला ने मनचलों को धक्का देकर अलग किया और चलती ट्रेन से बेटी को लेकर कूद गई।

वहीं स्टेशन पर लोगों ने एम्बुलेंस को सूचना दी। जिसके बाद पीड़ित महिला और उसकी बेटी को हैलट अस्पताल पहुंचाया गया, फिलहाल दोनों की हालत स्थिर है। लेकिन सरकार को इस बारे में कोई ठोस कदम उठाना चाहिए नहीं तो महिलाएं कैसे बेखौफ होकर अपनी जिंदगी जीएंगी।

loading...
शेयर करें

आपकी राय