सबसे बड़े चुनाव नतीजे – बीजेपी के गढ़ में घुसकर कांग्रेस ने जीता चुनाव, यहां नहीं चली मोदी लहर

0

भोपाल। बीजेपी के गढ़ में घुसकर कांग्रेस ने उसे पटखनी दे दी है। मध्य प्रदेश की दो सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने बीजेपी को हराकर जीत हासिल कर ली है। कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह यादव और मुंगावली में बृजेंद्र सिंह यादव ने जीत दर्ज की है। अशोकनगर के मुंगावली में कांग्रेस प्रत्याशी बृजेंद्र सिंह यादव ने भाजपा उम्मीदवार बाई साहब पर 2124 वोट के अंतर से जीत दर्ज की है। बता दें इसी साल मप्र में विधानसभा चुनाव होने हैं। और ये चुनाव विधानसभा चुनाव के सेमी फाइनल माने जा रहे थे।

मध्य प्रदेश की दो सीटों पर हुए उपचुनाव

शिवपुरी के कोलारस में 8086 वोटों से जीती कांग्रेस

वहीं, शिवपुरी के कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह यादव ने भाजपा के देवेंद्र जैन पर 8086 वोट से जीत दर्ज की है। इस तरह दोनों उप-चुनाव कांग्रेस की झोली में गए हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, अशोकनगर के मुंगावली विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 19 दौर में पूरी हुई। मतगणना के बाद कांग्रेस उम्मीदवार बृजेंद्र यादव ने बाई साहब पर 2124 की अंतिम बढ़त बना ली और जीत दर्ज की।

भाजपा के जैन को 73342 मत मिले

मुंगावली में कांग्रेस के उम्मीदवार बृजेंद्र सिंह यादव को 70808 वोट हासिल हुए वहीं भाजपा प्रत्याशी को 68684 वोट मिले। इसी तरह शिवपुरी जिले के कोलारस विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र सिंह यादव ने जीत हासिल की है। महेंद्र ने भाजपा उम्मीदवार देवेंद्र जैन को 8086 वोटों के अंतर से परास्त किया। यादव को कुल 82518 वोट मिले, जबकि भाजपा के जैन को 73342 मत मिले।

उपचुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई थी

मध्य प्रदेश की दो सीटों पर हुए उपचुनाव पर गौर करें तो एक बात साफ हो जाती है कि कोलारस में भाजपा लगातार पीछे चली। वहीं मुंगावली में शुरुआत में भाजपा आगे थी। उसके बाद पिछड़ी तो आगे नहीं निकल पाई। शिवपुरी जिले के कोलारस और अशोक नगर जिले के मुंगावली विधानसभा उपचुनाव की मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई थी। कोलारस उपचुनाव में 22 और मुंगावली में 13 उम्मीदवार चुनावी मैदान में आमने-सामने थे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के आगे बीजेपी हुई फुस्स

बता दें मध्य प्रदेश की ये दोनों सीटें कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाली थीं। यहां कांग्रेस के परंपरागत गढ़ को ढहाने के लिए बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा और 19 मंत्रियों समेत 40 से ज्यादा विधायकों ने दौरे, सभाएं कीं। लेकिन बीजेपी की ये कोशिशें नाकाम रहीं।

loading...
शेयर करें