मिसाल : मुस्लिम परिवार ने गोद लिए बेटे की हिंदू रीति-रिवाज से कराई शादी

0

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में एक मुस्लिम परिवार ने धर्म और महजब से दूर हटते हुए एक मिसाल पेश की है। इस परिवार ने गोद लिए हुए एक हिंदू लड़के की शादी हिंदू रीति-रिवाज से ही कराई गई। इतना ही नहीं इस मुस्लिम परिवार ने गोद लिए हुए बेटे का पालन-पोषण भी हिंदू रीति-रिवाज से किया। परिवार ने हिंदू लड़के को तब गोद लिया था, जब वह 12 साल का था।

हिंदू रीति-रिवाज से लड़के को पाला

यहां की सिग्नल मंडी में रहने वाले मोइनुद्दीन ने 15 साल पहले एक अनाथ लड़के राकेश रस्तोगी को अपने यहां पनाह दी थी। मोइनुद्दीन ने राकेश का लालन-पोषण तो किया लेकिन उसके धर्म से छेड़छाड़ नहीं की। राकेश का उन्होंने एक हिंदू लड़के की ही तरह पाला। आज मोइनुद्दीन के घर से राकेश की बारात चढ़ी तो वह भी हिंदू रीति रिवाज से।

राकेश की बारात खूब धूमधाम से निकाली गई

राकेश की बारात खूब धूमधाम से निकाली गई। मोइनुद्दीन की पत्नी कौसर अपनी बहू को अग्नि के सामने सात फेरे डालकर अपने घर में लाई है। अपनी शादी के दौरान बात करते हुए लड़के ने बताया कि इस परिवार में उन्होंने होली, दिवाली से लेकर हर त्योहार मनाए। दूल्हे ने कहा, ये सभी मुझे बहुत प्यार करते हैं। इस परिवार ने मुझे कभी महसूस नहीं होने दिया कि मेरे माता-पिता नहीं है। हर चीज में उन्होंने मुझे सपोर्ट किया फिर चाहे वह शादी ही क्यों न हो।

मुस्लिम के घर में हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरें लगी थीं

मोइनुद्दीन के दो और दो बेटियां हैं, मगर वह राकेश को ही बड़ा बेटा मानते हैं। लड़की के पिता आत्माराम जब रिश्ते की बात पर लड़के का घर देखने देहरादून आए तो उनका आश्चर्य का ठिकाना नहीं था। एक मुस्लिम के घर के एक कमरे में हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरें लगी थीं। इंसानियत की अनोखी मिसाल देखकर आत्माराम अपनी लड़की को इस घर की बहू बनाने के लिए फौरन तैयार हो गए।

loading...
शेयर करें