पुरानी किताबों को फेंके नहीं, बेचकर बन सकते हैं मालामाल

0

नई दिल्ली। अगर आपके पास भी पुरानी किताबें हैं तो यह आपके लिए काफी फायदे का सौदा हो सकता है। क्योंकि पुरानी किताबों से आप ज्ञान हासिल कर सकते हैं। जब भी कभी आप उन्हें पढेंगे आपको कुछ न कुछ ज्ञान जरुर मिलेगा। वहीं, दूसरी तरफ अगर आप इन्हें सही समय पर बेच देते हैं तो यह आपको मालामाल भी बना सकती हैं।

यह भी पढ़ें, बाल दिवस पर रायगढ़ आएंगे राष्ट्रपति कोविंद, स्टूडेंट्स के साथ करेंगे सेलिब्रेट

पुरानी किताबों को फेंके नहीं

बता दें, मार्टिन लूथर की सन् 1517 की एक किताब ’95 थीसिस’ की 1।1 मिलियन यूरो यानी कि लगभग 8।3 करोड़ रुपये में नीलाम हुई है। विक्रेता ने 32 सालों से अपने पास इस किताब को संभाल के रखा हुआ था। वहीं, रॉयल सोसायटी ऑफ लिटरेचर मैगजीन के पूर्व संपादक एंटनी गार्डनर का कहना है कि अगर आपको भी ऐसी किताबों से कमाई करनी है तो आपको किसी प्रसिद्ध किताब के पहले एडिशन की कॉपी सुरक्षित रखनी चाहिए।

इसके अलावा किताब को सिर्फ रखने से ही नहीं बल्कि अच्छी कंडिशन में रखने से ज्यादा कमाई होती है। यानी कि किताब अगर सही-सलामत हुई तो उसकी बोली भी ज्यादा लगती है। उन्होंने बताया, ‘भारत, चीन और अन्य कम आय वाले देशों के विकास से राष्ट्रीय साहित्यों में निवेश करने का मौका काफी बढ़ा है। जून में 18वीं सदी की एक नॉवल ‘ड्रीम ऑफ दी रेड चैंबर’ की 24 मिलियन युआन यानी 23।5 करोड़ रुपये में नीलामी हुई। इसमें चीन के दो परिवारों की कहानी है।’

दरअसल, इन सभी के पीछे एक बड़ी वजह होती है। आये दिन होने वाले रिसर्च को ध्यान में रखते हुए नए-नए अध्यन जरुरी होते हैं। इसके साथ ही साइटिंफिक किताबों का हमेशा से ही बोलबाला रहा है। ऐसी ही 2009 में डार्विन की ‘द ऑरिजिन ऑफ स्पीशिज’ की कीमत 70,000 पौंड यानी करीब 60 लाख रुपये तय की गयी थी। इस समय यह किताब खरीदने वाले को लगभग एक करोड़ रूपए देने होंगे।

loading...
शेयर करें

आपकी राय