एक बार फिर पाकिस्तान ने उरी में किया सीजफायर का उल्लघंन

0

उरी। पाकिस्तान की हरकतों को देखते हुए फिलहाल सीमा पर शान्ति बहाली की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है। लगातार समझाने के बावजूद पाकिस्तान अपनी आदत से बाज नहीं आ रहा है। अपनी इसी आदत के चलते शुक्रवार सुबह पाकिस्तान ने एक बार फिर से सीजफायर का उल्लघंन करते हुए सीमा से लगे हुए उरी सेक्टर में गोलाबारी करनी शुरु कर दी। लगता है पाकिस्तान ने अपनी पिछली गलतियों से कुछ नहीं सीखा है। पिछली बार पाकिस्तान द्वारा उरी सेक्टर में ही सीजफायर का उल्लघंन कर गोलाबारी करने के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक जैसा सख्त कदम उठाते हुए पाक के अन्दर घुसकर उसे सबक सिखाया था।

भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार पाकिस्तान ने बिना किसी वजह के गुरुवार शाम से ही उरी सेक्टर के कमलकोट इलाके में सीजफायर का उल्लघंन करते हुए गोलाबारी शुरु कर दी। रात करीब दो बजे के बाद पाक की तरफ से हो रही गोलाबारी थमती हुई नजर आई। लेकिन सुबह होते ही पाकिस्तान ने फिर से गोलाबारी शुरु कर दी। पाकिस्तान की तरफ से की जा रही गोलाबारी का भारतीय सैनिकों ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। गोलाबारी के दौरान किसी बड़े नुकसान के होने की जानकारी अभी तक नहीं मिली है।

पिछली बार उरी हमले के बाद भारत ने किया था सर्जिकल स्ट्राइक का फैसला

सितंबर 2016 में भी पाकिस्तान ने उरी सेक्टर में हमला किया था। इस हमले में भारत के 19 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद सेना ने 28-29 सितंबर 2016 की रात को नियंत्रण रेखा के पार जाकर सात आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। रात के बारह बजे पुंछ से एडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टर ‘ध्रुव’ पर 4 और 9 पैरा के 25 कमांडो सवार होकर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में दाखिल हुए थे। नियंत्रण रेखा के पार हेलिकॉप्टर ने इन जवानों को एक सुनसान जगह उतार दिया। पाकिस्तानी सेना की फायरिंग की आशंका के बीच इन कमांडोज ने तकरीबन तीन किलोमीटर का फासला रेंग कर तय किया। देश में तबाही मचाने के लिये यहां आतंकियों के लॉन्च पैड्स भिंबर, केल, तत्तापानी और लीपा इलाकों में स्थित थे।

पहले भारतीय कमांडोज ने आतंकियों पर ग्रेनेड से हमला किया। अफरा-तफरी फैलते ही स्मोक ग्रेनेड के साथ ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी। पलक झपकते ही सेना के जवानों ने 38 आतंकवादियों को ढेर कर दिया। इस हमले में पाकिस्तानी सेना के दो जवान भी मारे गए थे।

लगातार सीजफायर उल्लघंन की घटनाओं को देखते हुए लगता है कि भारतीय सेना को पाकिस्तान को इस बार भी पिछली बार की तरह सर्जिकल स्ट्राइक जैसा मुंहतोड़ जवाब देना होगा।

loading...
शेयर करें