सूखे की चपेट में उत्तराखंड का पिथौरागढ़, किसानों की बढ़ी मुश्‍किलें

0

पिथौरागढ़। उत्तराखंड के पर्वतीय इलाका पिथौरागढ़ में पिछले चार महीने से बारिश नहीं हुई है। जिससे यह इलाका सूखे की जबरदस्‍त चपेट में है। इस कारण किसानों ने बारिश की आस लगाकर मेहनत की थी वो भी जाया हो रही है। किसानों के सामने वर्तमान समय में  रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। सूखे का इतना सितम हुआ है कि वर्तमान में फसलों की दशा खराब है।

मीडिया में आई खबरों के अनुसार जिस मौसम में पिछले साल हरी भरी फसल लगी रहती थी वहां आज सूखा दिखाई दे रहा है। सूखे के कारण गेंहू, चना और मसूर की खेती को भारी नुकशान हुआ है। अगर इसी प्रकार के हालात बने रहेंगे तो किसानों को भारी नुकशान होने की पूरी संभावना है।

यह भी पढ़े- महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंची देहरादून की प्रियंका

बता दें कि जनपद के 10 फीसदी खेत ही सिंचाई के अनुकूल है। वहीं अन्‍य यानी 90 फीसदी खेतों की सिचाई का एकमात्र साधन वर्षा है। क्‍योंकि पहाड़ी क्षेत्र होनें के नाते न तो यहां पर बोरिंग की सुविधा है न ही किसी अन्‍य साधनों की। वहीं हिमापात होनें के से यह समस्‍या और भी अधिक हो गई है। बताया जा रहा है कि प्रत्‍येक नये साल के पहले हप्‍ते तक यहां पर बरशात हो जाया करती थी लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो किसानों के सामने रोजी रोटी की समस्‍या आ जायेगी।

loading...
शेयर करें