ASEAN समिट : फिलीपींस पहुंचे पीएम, इंदिरा गांधी के बाद यहां जाने वाले दूसरे प्रधानमंत्री बने मोदी

0

मनीला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15वीं आसियान समिट और 12 ईस्ट एशिया समिट में हिस्सा लेने के लिए रविवार को तीन दिन के फिलीपींस दौरे पर मनीला पहुंच गए हैं। मोदी यहां भारत-आसियान व पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, तीन दिनों की गहन कूटनीतिक गतिविधि हमारी ‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’ को आगे बढ़ाएगी।

यह बीते 36 सालों में फिलीपींस का किसी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला दौरा है

यह बीते 36 सालों में फिलीपींस का किसी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला दौरा है। इससे पहले साल 1981 में इंदिरा गांधी ने फिलीपींस का दौरा किया था। प्रधानमंत्री मोदी 15वें भारत-आसियन शिखर सम्मेलन व 12वें पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। यह साल भारत-आसियान संवाद साझेदारी की 25वीं वर्षगांठ है और आसियान के गठन की स्वर्ण जयंती है। दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) में ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड व वियतनाम शामिल हैं।

जापान ने पिछले महीने संकेत दिया था

यहां पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच द्विपक्षीय बैठक हो सकती है। भारत, अमेरिका, जापान व ऑस्ट्रेलिया के बीच चतुर्पक्षीय गठजोड़ बनाने के प्रस्ताव के बाद दोनों नेताओं के बीच यह पहली बैठक होगी। जापान ने पिछले महीने संकेत दिया था कि वह अमेरिका, भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच शीर्ष स्तरीय संवाद का प्रस्ताव करेगा।

भारत के सकल व्यापार में हिस्सेदारी 10.85 फीसदी है

आसियान के साथ कारोबार की भारत के सकल व्यापार में हिस्सेदारी 10.85 फीसदी है। मोदी ने रवानगी से पहले अपने बयान में कहा, फिलीपींस की मेरी पहली यात्रा के दौरान मैं दुर्तेते के साथ द्विपक्षीय बैठक की उम्मीद करता है। इसके साथ मैं दूसरे आसियान व पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन के नेताओं के साथ बातचीत करूंगा। मोदी फिलीपींस में भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति का भी दौरा करेंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी उनकी मुलाकात होगी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी उनकी मुलाकात होगी। बताया जा रहा है कि सोमवार को दोनों नेताओं के बीच बातचीत हो सकती है। मोदी ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि वे अंतरराष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (आइआरआरआइ) और महावीर फिलीपींस फांउडेशन इंक (एमपीएफआइ) को भी देखेंगे। इनमें कई भारतीय वैज्ञानिक काम कर रहे हैं।

loading...
शेयर करें

आपकी राय