भोपाल गैंगरेप में पुलिस ने निर्दोषी को बनाया दोषी, पत्‍नी के हंगामें के बाद खुली पोल

0

भोपाल। शिवराज की सरकार में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोचिंग से लौट रही छात्रा को चार लड़कों ने अगुवा कर उसके साथ जघन्‍य अपराध किया। लेकिन इतने दिनों के बाद भी पुलिस के हाथ आरोपी नहीं चढ़े। इस मामले के संज्ञान में आने पर प्रदेश के सीएम ने जल्‍द कार्रवाई का आश्‍वासन दिया। साथ ही दाषियों को कड़ी सजा देने को कहा। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनसुार पुलिस ने शाबासी लेने के लिए जल्‍दबाजी में एक निर्दोषी को ही दोषी बना दिया।

बता दें कि पुलिस ने तो तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है लेकिन एक आरोपी अभी भी पुलिस के पहुंच से दूर है। लेकिन जब पुलिस के ऊपर उसे भी गिरफ्तार करने का प्रेशर बढ़ा तो उनहोंने एक युवक को गिरफ्तार कर आरोपी बता दिया। लेकिन यह मामला तब प्रकाश में आया जब पुलिस के द्वारा उठाये गये चौथे आरोपी की पत्‍नी थाने पहुंच गयी। यहां पहुंच कर महिला ने खूब हंगामा काटा, इस पर पुलिस ने पिड़िता को थाने में बुलाया तो चौथे आरोपी को पहचानने से मना कर दिया।

यह भी पढ़े- शिवराज के राज में नहीं सुरक्षित लड़कियां, 15 मिनट का सिगरेट-गुटखा ब्रेक लेकर 3 घंटे तक करते रहे हैवानियत

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पिड़़िता ने जिस चौथे युवक को पहचानने से इंनकार कर दिया उसका नाम राजू बताया जा राह है। साथ ही सूत्रों का कहना है कि जीआरपी ने झुग्गी बस्ती में रहने वाले राजेश उर्फ राजू राजपूत को गिरफ्तार कर लिया था। गैंगरेप का यह मामला 31 अक्‍टूबर का है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय