“श्रीदेवी को श्रद्धांजलि” बनी मध्यप्रदेश की सियासत गर्म होने की वजह

0

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक बार फिर से सियासत गर्म हो गई है। इस बात का श्रीदेवी को श्रद्धांजलि बना है। दरअसल विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन मंगलवार को दिवंगत लोगों को श्रद्धांजलि दिए जाने को लेकर सूची जारी हुई थी । जिस सूची से अभिनेत्री श्रीदेवी का नाम हटाए जाने पर सियासत गरमा गई। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि  श्रीदेवी का नाम राजनीतिक दबाव में हटाया गया।

विधानसभा सचिवालय ने सोमवार को दिन में जो कार्यसूची जारी की गई थी, उसमें श्रीदेवी का नाम था, मगर देर शाम जारी हुई संशोधित कार्यसूची से श्रीदेवी का नाम गायब था। कांग्रेस विधायक डॉ. गोविंद सिंह ने सदन के बाहर संवाददाताओं से कहा कि श्रीदेवी हमेशा कट्टरपंथियों के खिलाफ आवाज उठाती रहीं और वह धर्मनिर्पेक्षता की समर्थक थीं। इसी के चलते दिवंगतों को श्रद्धांजलि दिए जाने की सूची से उनका नाम हटाया गया।”

भाजपा के विधायक मोहन यादव का कहना है कि श्रीदेवी एक कलाकार थीं और उन्हें भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए। इस संदर्भ में वह विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखेंगे। नगरीय प्रशासन मंत्री माया सिंह ने कहा कि श्रीदेवी अच्छी अदाकारा रही हैं, वह कम आयु में हमारे बीच से चली गईं। यह दुखद है। मुझे इस बात की जानकारी नहीं है कि उनका नाम सूची से हटाया गया है। कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने श्रीदेवी को श्रद्धांजलि न दिए जाने पर सवाल उठाया। उनका कहना है कि श्रीदेवी को पद्म पुरस्कार सहित कई सम्मान मिले थे, उन्हें श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए।

वहीं, भाजपा के विधायक यशपाल सिंह सिसौदिया ने तर्क दिया कि श्रीदेवी का अभी अंतिम संस्कार नहीं हुआ है, इसलिए श्रद्धांजलि नहीं दी गई होगी। आम तौर पर अंतिम संस्कार के बाद ही श्रद्धांजलि की परंपरा है। यहां बताना होगा कि पूर्व में जारी सूची में अभिनेता शशि कपूर का भी नाम था, मगर संशोधित कार्य सूची से उनका भी नाम हटा दिया गया।

loading...
शेयर करें