पीएम मोदी ने रखी हाइपरलूप प्रोजेक्ट की आधारशिला, 3 घंटे का सफर 20 मिनट में होगा पूरा

0

मुंबई। पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार शाम देश के पहले हाइपरलूप प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी। देश के दो प्रमुख शहरों मुंबई व पुणे के बीच की दूरी का अंतर अब 3 घंटे से घटकर केवल 20 मिनट रह जाएगा।

अमेरिकी कंपनी वर्जिन ग्रुप ने महाराष्ट्र सरकार के साथ इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के करार पर हस्ताक्षर किए हैं। यह हाइपरलूप मार्ग मध्य पुणे को वृहद महानगर के साथ-साथ नवी मुंबई के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से भी जोड़ेगे।

वर्जिन ग्रुप के चेयरमैन रिचर्ड ब्रैन्सन ने बताया हाइपरलूप प्रोजेक्ट के बारे में

वर्जिन ग्रुप के चेयरमैन रिचर्ड ब्रैन्सन ने कहा कि हमने महाराष्ट्र के साथ हाइपरलूप का करार किया है। इसकी शुरुआत परीक्षण के लिए ट्रैक बनाने के साथ होगी। इसके जरिये 15 करोड़ यात्री सलाना सफर कर पाएंगे।

हाइपरलूप को मुंबई-पुणे के अलावा नवी मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से भी जोड़ा जाएगा। इसकी रफ्तार 1000 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी। इसे देश के सबसे बिजी एक्सप्रेस-वे मुंबई-पुणे हाइवे के साथ-साथ बनाया जाएगा। यात्रियों के साथ-साथ कार्गो ऑपरेशन के लिए भी इसका इस्तेमाल होगा।

रिचर्ड ने कहा कि प्रस्तावित हाइपरलूप ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम यातायात की दुनिया को बदल देगा और यह मुंबई को दुनिया में अग्रणी बनाएगा। इस प्रॉजेक्ट का आर्थिक समाजिक लाभ 55 अरब डॉलर है। उन्होंने दवा किया कि इससे हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा। प्रोजेक्ट की कीमत और टाइमलाइन डीटेल की अभी प्रतीक्षा है।

इस समय सयुंक्त अरब अमीरात, अमेरिका, कनाडा, फिनलैंड और नीदर लैंड में हाइपरलूप पर काम चल रहा है।

जानिए किस तरह काम करेगा हाइपरलूप

हाइपरलूप के जरिये मुंबई और पुणे के बीच खंभों पर एक ट्यूब बिछाई जाएगी, जिसके अंदर हाइपरलूप ट्रेन दौड़ेगी। यह ट्रेन चुंबकीय शक्ति से ट्यूब के अंदर हवा में दौड़ेगी।

इसके लिए सोलर पावर और विंड पावर का इस्तेमाल किया जाएगा। कहा जा रहा है कि हाइपरलूप का किराया हवाई यात्रा के मुकाबले काफी कम होगा।

loading...
शेयर करें