राहुल गांधी के खिलाफ अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे!

0

नई दिल्ली। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस में इसी साल के अंत तक संगठन का चुनाव होने वाला है। माना जा रहा है कि उपाध्यक्ष राहुल गांधी अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस में गांधी परिवार के वर्चस्व को चुनौती देने के लिए कांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर तैयार हैं।

कांग्रेस

वेबसाइट www.bihari.news के मुताबिक मणिशंकर अय्यर ने एक कार्यक्रम में कहा कि पार्टी में जब तक मां और बेटे की सत्ता है, तब तक किसी का भला नहीं हो सकता। चाहे जितने भी सक्रिय नेता कांग्रेस में हो, वे अध्यक्ष पद तक नहीं पहुंच सकते हैं। कांग्रेस में परिवारवाद शुरू से तय है। यह बात कांग्रेस के पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने कसौली में कही। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में राहुल गांधी या उनकी मां सोनिया गांधी के अलावा कोई तीसरा नेता अध्यक्ष पद की चाह नहीं रख सकता।

यह वंशवाद की परंपरा है, जो शायद कभी खत्म नहीं होगी। अय्यर ने कहा कि कांग्रेस भले ही उन्हें अपना न मानती हो, लेकिन वे जन्म से कांग्रेसी विचारधारा से जुड़े हैं। जब तक सक्रिय रहेंगे, पार्टी में रहकर काम करेंगे। उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस वर्किंग कमेटी का चुनाव लड़ेंगे। इससे उन्हें कोई नहीं रोक सकता।

बकौल मणिशंकर- चुनाव के बाद जो पद उन्हें मिलेगा, उसका जिम्मेदारी से निर्वहन करूंगा। अय्यर ने यहां तक कह दिया कि जो हालत बीजेपी में यशवंत सिन्हा, शत्रुघ्न सिन्हा और अरुण शौरी की है, वही हालत मेरी कांग्रेस में है। मणिशंकर अय्यर एक भूतपूर्व भारतीय राजनयिक हैं जो विदेश सेवा से इस्तीफा देकर 1989-1991 में राजीव गांधी के लिए सक्रिय राजनीतिज्ञ बने।

वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य हैं और 2009 के चुनाव में अपनी सीट हारने तक पंचायती राज मंत्री रहे। वह मई 2004 से जनवरी 2006 तक प्राकृतिक गैस और पेट्रोलियम तथा 2009 तक युवा कार्यकलाप और खेल मंत्रालय के कैबिनेट मंत्री रहे। मणिशंकर अय्यर का नाम विवादित बयानों के लिए अक्सर सुर्खियों में रहता है।

(Note – ये खबर हमने www.bihari.news से ली है, इसमें कितनी सच्चाई है इसकी जिम्मेदारी puridunia.com नहीं लेता, इसलिए ये खबर हमने अपने Copy Paste सेक्शन में लगाई है)

 

(www.bihari.news से साभार)

loading...
शेयर करें