राजस्थान उपचुनाव नतीजे : मोदी को जबरदस्त झटका, सभी सीटों पर कांग्रेस की एकतरफा जीत

0

जयपुर। राजस्थान उपचुनाव के लिए मतगणना अब खत्म हो गई है। राजस्थान की सभी सीटों अलवर व अजमेर लोकसभा और मांडलगढ़ विधानसभा पर कांग्रेस को लगभग जीत हासिल हुई है। वसुंधरा सरकार के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा है। दूसरी तरफ पश्चिम बंगाल की नवपाड़ा विधानसभा सीट पर ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने करीब 1 लाख वोटों से अपने नाम कर ली, यहां बीजेपी दूसरे नंबर पर रही।

इन चुनावों को बीजेपी की बड़ी हार के तौर पर देखा जा रहा है

अलवर में कांग्रेस के करण सिंह यादव बीजेपी प्रत्याशी जसवंत सिंह यादव विजयी पर बढ़त बनाए हुए हैैं। वहीं, अजमेर में भी कांग्रेस के रघु शर्मा भाजपा के राम स्वरूप लांबा को बड़ी मात देने वाले हैं। वहीं, मांडलगढ़ विधानसभा सीट पर कांग्रेस ने बड़ी जीत दर्ज की। कांग्रेस ने यहां करीब 12976 वोटों से जीत हासिल की। इन चुनावों को बीजेपी की बड़ी हार के तौर पर देखा जा रहा है। बता दें राजस्थान में इसी साल विधानसभा चुनाव और अगले साल लोकसभा चुनाव होने है, इस चुनाव को सेमिफाइनल माना जा रहा है।

लोकसभा की दो और एक विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए थे

राजस्थान में इसी सप्ताह लोकसभा की दो सीटों पर एक विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए थे। अलवर और अजमेर लोकसभा सीटों पर मतगणना अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में हो रही थी जबकि मंडलगढ़ विधानसभा सीट पर मतगणना भिलवाड़ा में हो रही है। इन तीनों सीटों पर कुल 42 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला होना था। वहीं, प. बंगाल में हावड़ा जिले के उलुबेरिया लोकसभा क्षेत्र के टीएमसी सांसद सुल्तान अहमद और नॉर्थ 24 परगना जिले के नवपाड़ा विधानसभा के कांग्रेस विधायक मधुसुदन घोष का निधन हो जाने के कारण उप चुनाव हुआ था।

कांग्रेस और बीजेपी में कड़ा मुकाबला

शुरुआती रुझानो के बाद कांग्रेस सांसद सचिन पायलट ने कहा था कि यह सिर्फ एक शुरुआत है। प्रदेश में अभी कांग्रेस के मत और बढ़ेंगे। अलवर में भाजपा के जसवंत सिंह यादव का सामना कांग्रेस के करण सिंह यादव से जबकि अजमेर सीट पर कांग्रेस के रघु शर्मा का मुकाबला भाजपा के राम स्वरूप लांबा से था। मंडलगढ़ सीट पर मुख्य मुकाबला भाजपा के शक्ति सहि हाडा और कांग्रेस के विवेक धाकड़ के बीच था।

क्यों हुए उपचुनाव

गौरतलब है कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री और अजमेर से भाजपा सांसद प्रो सांवर लाल जाट, अलवर से बीजेपी, सांसद चांद नाथ योगी और मांडलगढ से भाजपा विधायक कीर्ति कुमारी का असामयिक निधन होने के कारण तीनों सीटों के लिए उपचुनाव हो रहे थे। पहली बार मतदान के लिए उम्मीदवारों की तस्वीरों के साथ ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल हुुआ।

loading...
शेयर करें