रिसर्च : आपकी सोच से कहीं अधिक होशियार होती हैं मछलियां

0

नई दिल्ली। आमतौर पर यही माना जाता है कि जीव जंतुओं का दिमाग इंसानों से कम होता है। लेकिन आपको शायद ये यकीन नहीं होगा छोटी से दिखने वाली मछली हमारी सोच से कई गुना तेज होती है। गोल्डफिश मछलियां बहुत होशियार होती हैं। वो किसी भी चीज को काफी वक़्त तक याद रखती हैं।

अभी तक हम यही मानते आये मछलियों के पास दिमाग कम होता है। किसी चीज को मात्र तीन सेकंड तक ही याद रख सकती हैं लेकिन वैज्ञानिकों ने इस धरना को गलत साबित कर दिया। उनको चीजे एक एक पखवाड़े तक याद रहती हैं।

इस बात का खुलासा वैज्ञानिकों द्वारा किये गए शोध में हुआ है। इस अध्ययन के लिए वैज्ञानिकों ने अफ्रीका की एक लोकप्रिय मछली सिचलिड्‍स को चुना। उसे मछलीघर के एक खास हिस्से में खाना देने की ट्रेनिंग दी गयी। फिर विज्ञानिकों ने दो हफ्ते बाद उन मछलियों को वहीँ छोड़ा तो खाने वाली जगह पर पहुँच गईं। एडमांटन, कनाडा की मैकइवान यूनिवर्सिटी के डॉ. ट्रेवर हैमिल्टन का कहना है कि अन्य प्रजातियों की मछलियों की तुलना में सिचलिड्‍स को एक लाभ हासिल होता है।

डॉ. हैमिल्टन ने भी ये प्रयोग किए थे। उनका कहना है कि जो मछलियां यह बात याद रखती हैं कि भोजन कहां है, उन्हें यह बात याद ना रख पाने वाली मछलियों की तुलना में एक विकासपरक लाभ हासिल होता है। अगर उन्हें यह बात याद रहती है कि बिना किसी भय के पानी के एक निश्चित क्षेत्र में भोजन है तो वे फिर से वहीं पहुंच जाएंगी।

इस रिसर्च को करने के लिए मछली को मछलीघर में खाना देने के लिए एक निश्चित जगह बनाया गया। तीन दिन तक 20 मिनट का ट्रेनिंग सेशन चला। सिचलिड्‍स ने अपने क्षेत्र में ही खाना खाया। इसके बाद मछलियों को 12 दिन के लिए ब्रेक दिया गया। उसके बाद फिर उन्ह ट्रेनिंग एरिया में छोड़ा गया।

इसके बाद एक मोशन-ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर से उनकी गतिविधियों को रिकॉर्ड किया गया। तब यह पाया गया कि मछलियां फिर उसी स्थान पर आ गई थीं जहां उन्हें भोजन मिलता था।

loading...
शेयर करें