शर्मसार : गर्भपात से अजन्मी बच्ची को फेंका खेत में, महिला की मौत

0

मोहाली। जहां अपने देश भारत में महिलाओं को उच्च दर्ज़ा दिलाने के लिए सरकार हर सार्थक प्रयास कर रही है वही कुछ मानसिक विकृत्ति के लोग आज भी लड़कियों को बोझ समझते है। ऐसा ही एक दिल दहलाने वाला मामला पंजाब में हुआ, बीते रात बुधवार को सात महीने की गर्भवती महिला का गर्भपात जबरन गर्भपात करा दिया गया, जिससे उसकी मौत हो गई। उस महिला का सिर्फ इतना कसूर था कि उसके गर्भ में पल रहा भ्रूण कन्या का था। इस साजिश को अंजाम उसके पति और देवर ने मिल के दिया।


घटना के बाद, परिवार के सदस्यों ने उस महिला और उसकी अजन्मी बच्ची को एक रजाई में लपेटकर खेत में फेंक दिया। महिला की पहचान सिधवां बेट के जंदी कलन गांव में रहने वाली 32 वर्षीय मंजीत कौर के रूप में की गई।

मंजीत के पिता ने सिधवां बेट पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की है। सूत्रों के अनुसार पुलिस ने मंजीत के पति इरविंदर सिंह और देवर निर्मल सिंह को गिरफ़्तार कर लिया है। इसके अलावा पुलिस उस डॉक्टर की तलाश में जुट गई है, जिसने ये गर्भपात कराया था।

मंजीत के भाई, चरनजीत सिंह का कहना है कि उनको इस हादसे की जानकारी रविवार की रात को मिली थी और खबर मिलते ही वो लोग मंजीत के ससुराल के लिए निकल गए और वहां जाकर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की। चरनजीत ने बताया, जब तक हम उनके घर पहुंचते, उन्होंने अपराध के सभी सबूत मिटा दिए और मनजीत के बारे में उल्टा-सीधा बोलने के साथ उसके बारे में बहस करना शुरू कर दिया। हालांकि, जांच के दौरान पुलिस को कमरे के कोनों में खून के धब्बे दिखाई दिए। इसके बाद चरनजीत ने बताया कि जांच-पड़ताल के बाद पुलिस को पास के खेत में मंजीत और उसकी अजन्मी बच्ची की लाश मिली।

इस मामले में आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 313 (स्त्री की सहमति के बिना गर्भपात होने के कारण) और 315 के तहत केस दर्ज किया गया है।

loading...
शेयर करें