अयोध्या मसले पर चर्चा करने के लिए 16 नवंबर को अयोध्या जाएंगे श्री श्री रविशंकर

0

लखनऊ। अयोध्या मामला कोर्ट के बाहर सुलझाने के लिए आए ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्‍थापक श्री श्री रविशंकर 16 नवंबर को राम नगरी का दौरा करेंगे। इस यात्रा के दौरान रविशंकर प्रसाद हिंदू व मुस्लिम दोनों ही पक्षकारों से मुलाकात कर उनकी बातें सुनेगें।

-shree-shree-ravishankar-will-visit-ayodhya

आपको बता दें कि रविशंकर प्रसाद को निर्मोही अखाड़ा के दिनेंद्र दास के निमंत्रण पर अयोध्या आरहें हैं। 11 नवम्बर को दिनेंद्र दास ने बंगलौर में श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात कर उन्हें मध्यस्थता के लिए अयोध्या आने की गुजारिश की थी।

अयोध्या जाने से पहले श्री श्री रविशंकर15 लखनऊ में भी कुछ पक्षों से बात करेंगे। वहीं 16 नवंबर को अयोध्या में भी मुसलमान और हिंदू पक्षकारों से मिल्क सी मसले का हल निकालने की कोशिश करेंगे ।

वहीं इससे पहले पिछले ‌दिनों शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सैय्यद वसीम रिजवी ने बंगलूरू में श्रीश्री रविशंकर से मुलाकात कर चुके हैं। मुलाकात के बाद वसीम रिजवी ने कहा था कि हम अयोध्या में ही राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में हैं।

उन्होंने कहा था कि राम मंदिर फैजाबाद जिले के अयोध्या शहर में राम जन्मभूमि पर ही बनना चाहिए। शिया वक्फ बोर्ड भी इस मामले में पार्टी हैं, क्योंकि बाबरी मस्जिद शिया मस्जिद थी।’ जब उनसे पूछा गया कि आखिर इतने दिन तक क्यों चुप रहे तब उन्होंने कहा कि इतने दिन खामोश रहे, इसका मतलब नहीं है कि हमारा अधिकार नहीं है।’

अयोध्या मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा था कि  बेहतर होगा कि अयोध्या मुद्दे पर सभी पक्ष आपस में बात करें और एक राय बनाएं। रविशंकर ने मामले पर मध्यस्‍थता करने की इच्छा जताई थी

loading...
शेयर करें

आपकी राय