सर्वे : गांव में 58% बच्‍चे अंग्रेजी पढ़ने में सक्षम

0

नई दिल्‍ली। भारत में कई राज्‍य हैं और इन राज्‍यों में कई ऐसे गांव हैं जहां साक्षरता ने अपना घर बसा रखा है। लेकिन बच्‍चों को शिक्षा का पाठ पढ़ाने गांव से लेकर शहरों तक में सरकार ऐड़ी चोटी का जोर लगा रही है। हालांकि, इसका असर होता दिखाई भी दे रहा है। तभी तो हाल ही में कराए गए एक सर्वे यह उजागर हुआ कि भारत में जितनी तेजी से अंग्रेजी की लोकप्रियता और मांग बढ़ रही है गांव के बच्‍चे भी उसके रंग में रंगते हुए नजर आने लगे हैं।

अंग्रेजी

हाल ही में 30 हजार बच्चों पर एक सर्वे कराया गया। ‘ऐनुअल स्कूल एजुकेशन रिपोर्ट 2017’ नाम के इस सर्वे में 24 राज्यों के बच्‍चों को शामिल किया गया। वहीं चौंका देने वाली बात यह है कि इन बच्‍चों में 58% ग्रामीण टीनएजर अंग्रेजी पढ़ पा रहे थे। दरअसल, सर्वे में जो बच्‍चे अंग्रेजी पढ़ सकते थे उनमें से 79% बच्चे अंग्रेजी के वाक्‍यों का मतलब समझ पा रहे थे।

इसके अलावा 14 साल तक के बच्‍चों में कराए गए सर्वे में सिर्फ 53% बच्‍चे ही ऐसे थे जो अंग्रेजी के वाक्‍य पढ़ सक रहे थे। जबकि 18 साल तक की उम्र के बच्‍चों में 60% तक बच्‍चे अंग्रेजी पढ़ने में सक्षम थे। वहीं पूरे सर्वे में शामिल 60% बच्चे ऐसे थे जो 12वीं करने के बाद हाई एजुकेशन लेने में दिलचस्‍पी रखते हैं। वहीं क्‍लास दो तक के बच्‍चों में सिर्फ 35% बच्चे ही 2वीं के बाद पढ़ना चाहते हैं।

loading...
शेयर करें