योगी के मंत्री ने कहा- जिन्ना ही नहीं, इस तरह तो नेहरू और पटेल भी हैं जिम्मेदार

0

लखनऊ: पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर उत्तर प्रदेश में मचा बवाल अभी पूरी तरह से थमा भी नहीं था कि सूबे की सत्तारूढ़ योगी सरकार एक मंत्री ने इस विवाद में पंडित जवाहर लाल नेहरू और सरदार पटेल का नाम भी जोड़ दिया है। दरअसल, यूपी के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने जिन्ना मामले को हवा देते हुए कहा कि देश के बंटवारे के लिए मोहम्मद अली जिन्ना ही नहीं बल्कि पंडित जवाहर लाल नेहरू और सरदार पटेल भी जिम्मेदार थे।

बीते रविवार को अपने अंबेडकर नगर दौरे पर मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि आजादी से पहले गांधी, पटेल और नेहरू समेत अन्य की तरह ही जिन्ना भी स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने आगे कहा कि केवल जिन्ना ही नहीं, देश बंटवारे के मसौदे पर नेहरु और पटेल ने भी हस्ताक्षर किया था।

इस दौरान स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने उस बयान पर सफाई भी पेश की जिसमें उन्होंने अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग को शर्मनाक करार दिया था। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की आलोचना करते हुए तस्वीर हटाने की मांग का समर्थन किया था।

अपने इस बयान पर अफाई पेश करते हुए स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि मेरे पिछले बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया। मैंने कहा था कि देश के बंटवारे के पूर्व में अगर उनकी मूर्ति (जिन्ना) लगी है, तो उसे हटाने का कोई औचित्य नहीं है।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने इससे पहले कहा था कि राष्ट्र निर्माण में जिन महानायकों का योगदान रहा है, अगर उन पर अंगुली उठेगी, तो यह बेहद घटिया चीज होगी। देश के बंटवारे से पहले जिन्ना का योगदान इस देश में था। अगर जिन्ना को लेकर बकवास बयान आते हैं, फिर चाहे वे उनके सांसद और विधायक दें, उनके लिए लोकतंत्र में कोई जगह नहीं है।

loading...
शेयर करें