दिन हो या रात एनकांउटर होगा ‘ऑन द स्पॉट’, यही है योगी राज

0

नोएडा। मार्च 2017 में यूपी में योगी सरकार के गठन के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस को प्रदेश से अपराध जड़ मिटाने के आदेश जारी किए थे। जिसके तहत यूपी पुलिस के तेवर अब अपराधियों के प्रति सख्त हो गए हैं। मामलों में किसी तरह की ढिलाई ना बरतते हुए पुलिस अपराधियों का एनकांउटर करने से भी नहीं हिचक रही है। इसी अभियान के तहत पिछले 24 घंटो में पुलिस ने नोएडा व हापुड़ में अपराधियों से सीधी टक्कर लेते हुए दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। इस मुठभेड़ में पुलिस का एक सिपाही घायल हो गया है।

जंगल में हुई पुलिस की अपराधियों से मुठभेड़

पुलिस सू्त्रों के अनुसार देवकरण नाम का व्यक्ति कल रात हापुड़ से अपने घर जा रहा था। रास्ते में मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने उसका पर्स लूट लिया। सूचना के बाद पुलिस ने बदमाशों को पकड़ने के लिए चेकिंग शुरु कर दी। इस दौरान हाफिजपुर इलाके में पुलिस ने भटियाना जंगल में बदमाशों को घेर लिया। खुद को घिरा देख बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग करनी शुरु कर दी।

पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए गोली चलाई, जिसमें सोनू नाम का बदमाश घायल हो गया। इस दौरान कांस्टेबल सुनील गिरने से घायल हो गये। घायल बदमाश और पुलिसकर्मी को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। पुलिस ने दोनों बदमाशों सोनू उर्फ विशाल और पिन्टू को गिरफ़्तार कर लिया है। उनके पास से लूटा गया पर्स और हथियार बरामद किए गये। दोनो बदमाश बुलन्दशहर के बीबीपुर इलाके के रहने वाले हैं।

नोएडा में भी हुई पुलिस की अपराधियों से मुठभेड़

पुलिस के मुताबिक दिल्ली के रहने वाले कारोबारी उमेश विज़ की नोएडा फेज 2 में फैक्ट्री है। 8 जनवरी को कुछ लोगों ने उनकी बीएमडब्लू कार में फायरिंग की, और 2 करोड़ रुपए की रंगदारी देने कहा, नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी। कारोबारी ने तुरंत इसकी शिकायत पुलिस में की, पुलिस ने मामला दर्ज कर उमेश को सुरक्षा मुहैया कराई और उनकी फैक्ट्री के बाहर एक पीसीआर तैनात कर दी। इसके बाद भी व्यापारी को बदमाशों की तरफ से अलग-अलग नंबरों से धमकी भरे फोन आते रहे। पुलिस ने व्यापारी के फोन पर आने वाले धमकी भरे फोन नंबरों को सर्विलांस पर लगाकर बदमाशों को पकड़ने का प्लान बनाया।

पुलिस को शनिवार रात करीब 8 बजे जानकारी मिली की रंगदारी मांगने वाले नोएडा के सेक्टर 80 के इलाके में है। पुलिस का दावा है कि जब बदमाशों की घेराबंदी की गई तो उन्होंने फायरिंग शुरु कर दी, जिस पर पुलिस ने भी जबाबी फायरिंग की। फायरिंग में आज़ाद और विकास नाम के 2 बदमाशों को गोली लगी। जबकि संजू नाम का शख्स पकड़ा गया, तीनो ही बदमाश मूल रूप से बागपत के रहने वाले है। संजू, विकास का बहनोई है, और नोएडा में गढ़ी चौखंडी में किराए पर रहता है। सभी बदमाश उसी के पास आकर रुकते थे। इस घटना का मास्टर माइंड अरविंद ड्राइवर बताया जा रहा है। जोकि पहले कारोबारी उमेश की गाड़ी चलाया करता था, उसे 2 साल पहले नौकरी से निकाल दिया गया था।

घटना के मास्टरमाइंड ड्राइवर अरविन्द की तलाश जारी

अरविंद ने ही बदमाशों को बताया था कि उमेश विज़ बहुत ही डरपोक है। अगर तुम लोग उसकी गाड़ी पर फायर कर दोगे तो बह डर के मारे जो तुम मांगोगे दे देगा। इसलिए 8-9 जनवरी की रात्रि में बदमाशों ने उमेश की गाड़ी पर फायर किया था, और उसके बाद रंगदारी मांगी थी। घायल बदमाशों को इलाज हेतु अस्पताल भिजवा दिया गया है। पकड़े गए बदमाश से पूछताछ जारी है। वही पुलिस घटना के मास्टमाइंड अरविंद की तलाश कर रही है।

loading...
शेयर करें