राहुल गांधी के बाद अब ममता भी चलीं ‘हिंदुत्व’ की राह पर – किया कुछ ऐसा, उड़े बीजेपी के होश

0

कोलकता। पश्चिम बंगाल की सीएम और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) अध्यक्ष ममता बनर्जी पर हमेशा बीजेपी मुस्किल तुष्टीकरण के आरापे लगाती रहती है। लेकिन अब ममता की टीएमसी ने कांग्रेस की तरह ही अपनी राह बदल ली है। ममता भी अब नरम हिंदुत्व की राह पर चल पड़ी हैं। बोलपुर शहर में टीएमसी के ब्राह्मण सम्मेलन को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

यह भी पढ़ें : राहुल बन गए जेंटलमैन – बहरीन के पीएम से मिलने पहुंचे, बीजेपी ने कहा – मोदी की नकल कर रहे

सोमवार को पार्टी ने वहां पहला ब्राह्मण सम्मेलन किया

सोमवार को पार्टी ने वहां पहला ब्राह्मण सम्मेलन किया। जहां तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी के करीबी कहे जाने वाले अनुब्रत मंडल ने पार्टी की ओर से आयोजित ब्राह्मण सम्मेलन में आठ हजार पुरोहितों को गीता और उपहार भेंट कर सम्मानित किया। बीरभूम के टीएमसी कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि मंडल जिले और उसके आसपास के करीब 12 हजार पुजारियों को एक मंच पर साथ लेकर आए। बता दें बीरभूम जिले में बीजेपी का वोट शेयर बढ़ रहा है।

यह भी पढ़ें : जनता का फूटा गुस्सा, वोट मांगने गए बीजेपी नेता को पहनाया जूते-चप्पलों का हार, वीडियो वायरल

बढ़ रहा बीजेपी का वोट शेयर

2014 के आम चुनावों में बीजेपी उम्मीदवार जॉय बनर्जी को पिछले पांच वर्षों के 4.62 प्रतिशत की तुलना में 18.47 प्रतिशत वोट मिले थे। बीजेपी नेताओं ने कहा कि इस साल होने वाले पंचायत चुनावों से पहले मंडल समर्थन जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, 17 जनवरी को मुस्लिम सम्मेलन और 24 जनवरी को आदिवासी सम्मेलन का भी आयोजन किया जाएगा। इससे पहले ममता बनर्जी के गाय बांटने को लेकर भी विवाद हुआ था।

बीजेपी ने साधा निशाना

बीजेपी के मुताबिक, यह आयोजन इसलिए किया गया है ताकि हिंदू मतदाता भगवा दल के खेमे में ना चले जाएं। दिनभर चले सम्मेलन का आयोजन पार्टी के वीरभूम जिले के अध्यक्ष अनुब्रत मोंडल ने किया। मोंडल के मुताबिक इस सम्मेलन का उद्देश्य भाजपा द्वारा हिंदू धर्म की जो गलत व्याख्या की गई है, उसे उजागर करना है और हिंदू धर्म के सही अर्थ पर चर्चा करना है।

loading...
शेयर करें