केन्द्रीय मंत्री ने कहा- किसानों को रोजगार और अधिक लाभ देने के लिए प्रयासरत है मोदी सरकार

0

पटना| केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने यहां गुरुवार को कहा कि सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने, कृषि में रोजगार के अवसर बढ़ाने और किसानों को अधिक से अधिक लाभ मिले, इसके लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि देश के सकल घरेलू उत्पाद में कृषि क्षेत्र का योगदान लगभग 14 प्रतिशत है जबकि बिहार में कृषि क्षेत्र का योगदान लगभग 19 प्रतिशत है।

पटना में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) में आयोजित किसान ‘गोष्ठी और प्रक्षेत्र भ्रमण’ कार्यक्रम के दौरान किसानों को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि बिहार की कृषि पर जनसंख्या का भारी दबाब है तथा खेती करने वाले परिवारों में सीमांत किसानों तथा कृषि मजदूरों की संख्या अधिक है।

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि राज्य में प्रतिवर्ष दूध का उत्पादन 87 लाख म्रिटीक टन, अंडे का उत्पादन 111 करोड़, मांस का उत्पादन 3.26 लाख मिट्रिक टन तथा मछली का उत्पादन 5.06 लाख मिट्रिक टन हो गया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था के विकास के साथ देश स्तर पर सकल घरेलू उत्पाद में कृषि क्षेत्र का योगदान घटता जा रहा है, लेकिन कृषि पर आधारित जनसंख्या का उस अनुपात में कमी नहीं हो रही है। यह समावेशी विकास के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती है।

उन्होंने कहा कि देश की तुलना में बिहार की कृषि पर जनसंख्या का दबाब अधिक है। बिहार में फसलों के उत्पादन में वृद्धि पर संतोष व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में कृषि के विकास के लिए प्राकृतिक संसाधन उपलब्ध हैं। पिछले चार-पांच साल में फसल और बागवानी में उल्लेखनीय उपलब्धि के साथ-साथ कृषि के क्षेत्र में प्रगति हुई है।

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष बिहार में अनुमानित 141 लाख टन धान्य फसलों का उत्पादन हुआ, जिसमें 68.8 लाख टन धान, 47.4 लाख टन गेहूं, 25.2 लाख टन मक्का, 4.2 लाख टन दलहन और 1.3 लाख टन तेलहन का उत्पादन था। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दुगुनी करने के लिए कृषि मंत्रालय सात सूत्री कार्यक्रम चला रहा है और इसमें सफलता की आशा है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय