कर्नाटक में बीजेपी को नहीं मिला पूर्ण बहुमत, यूपी में धरा रह गया जश्न मनाने का पूरा इंतजाम

0

लखनऊ| उत्तर प्रदेश की राजधानी में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के समर्थकों का चेहरा उस समय उतर गया, जब कर्नाटक से यह खबर आई कि वहां भाजपा पूर्ण बहुमत मिलने से चूक गई है। रुझानों में भाजपा को बहुमत न मिलता देख भाजपा के प्रदेश नेतृत्व ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ जश्न मनाने का कार्यक्रम बना डाला, लेकिन बाद में योगी के कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया।

भाजपा के प्रदेश कार्यालय पर कर्नाटक की जीत का जश्न मनाने का पूरा इंतजाम कर लिया था। कार्यकर्ताओं भी उत्साह में कार्यालय पहुंचने लगे थे। लेकिन कर्नाटक में भाजपा की सीटों का आंकड़ा जैसे ही कम होना शुरू हुआ, कार्यकर्ताओं का उत्साह खत्म हो गया। कार्यालय में न लड्ड बंटे और न ही पटाखे छोड़े गए। अंत में कार्यकर्ताओं को मायूस होकर वापस लौटना पड़ा।

इधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को विकास कार्यो का स्थलीय निरीक्षण करने कासगंज में थे। इस दौरान हालांकि वह कर्नाटक में भाजपा को अच्छे परिणाम मिलने की खुशी नहीं छुपा सके।

कर्नाटक विधानसभा में भाजपा को मिली जीत का सेहरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के कामों के सिर पर बंधेगा। केंद्र सरकार के देश के विकास को लेकर बेहतरीन कामों के कारण भाजपा को एक-एक राज्यों में जीत मिल रही है। उन्होंने कहा कि अब जिन भी प्रदेशों में कांग्रेस की सरकार बची है, वहां पर भी आने वाले चुनाव में भाजपा को जीत मिलेगी। जिस भी प्रदेश में भी कांग्रेस बची है, वह भी जल्दी साफ हो जाएगी।

इससे पहले उन्होंने 14 अप्रैल से 5 मई तक चलाए गए ग्राम स्वराज अभियान के साथ जिले की कानून व्यवस्था और विकास की समीक्षा की। बैठक करीब एक घंटे चली। उन्होंने इस दौरान सभी विभागों की प्रगति के बारे में जाना और आवश्यक निर्देश दिए।

इससे पहले मुख्यमंत्री कासगंज के बवाल में मारे गए चंदन गुप्ता की बहन और पिता भी मुख्यमंत्री से मुलाकात करने पहुंचे। 26 जनवरी को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एवीवीपी) की तिरंगा यात्रा के दौरान हुए बवाल में चंदन की हत्या कर दी गई थी। पशुधन विकास मंत्री एसपी सिंह बघेल भी मुख्यमंत्री से भेंट करने पहुंचे थे।

loading...
शेयर करें