कैसा जाएगा आपका आज का दिन जानने के लिए पढ़ें राशिफल

0

*।।आज का पञ्चाङ्ग।।*

/आज का दिन मंगलमय हो/7 जनवरी दिन रविवार/ऋतु-शिशिर/माह-माघ/सूर्य-दक्षिणायन/सूर्योदय-06:45/
सूर्यास्त-05:15/राहूकाल(अशुभ समय)शायं04:30से 06:00बजे तक/तिथि-षष्ठी/पक्ष-कृष्ण/दिशाशूल-पश्चिम व नैऋत्य/शुभदिशा-पूर्व व उत्तर/अभिजित मुहूर्त-दोपहर 12:06से 12:48तक/अमृतमुहूर्त- दोपहर 11:09से 12:27 तक/

*।।आज का राशिफल।।*

*मेष:-* आज आप अपने स्वभाव में उग्रता और जिद्दी व्यवहार पर नियंत्रण रखे।आज अधिक परिश्रम करना पड़ सकता है। मन कुछ खिन्न रह सकता है, इस पर अंकुश रखें। यात्रा के लिए समय उचित नहीं है।
सुझाव:-आज आप गाय को रोटी गुड़ खिलावें।
राशिरत्न:-मूँगा
शुभरंग:-आसमानी

*वृष:-* आज आपकी कार्यकुशलता में दृढ़ मनोबल और आत्मविश्वास की भूमिका होगी। पितृ पक्ष की तरफ से लाभ होगा। विद्यार्थीगण पढ़ाई में रुचि बनाए रख सकेंगे। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी।
सुझाव:-आज आप श्वेत तिल का दान करें।
राशिरत्न:-हीरा, ओपल
शुभरंग:-फिरोजी

*मिथुन :-* आज दिन की शुरुआत से ही ताजगी और स्फूर्ति का अनुभव करेंगे। भाग्यवृद्धि के अवसर आएंगे। तेजी से बदलते हुए विचार आपको उलझपूर्ण परिस्थिति में डाल सकते हैं। नए कार्यों का प्रारंभ कर सकेंगे।
सुझाव:-आज आप मछलियों को चारा डालें।
राशिरत्न:-पन्ना
शुभरंग:-गुलाबी

*कर्क:-* आज मन कुछ हताश और खिन्न रह सकता है। परिवार में सदस्यों के साथ गलतफहमी हो सकती है। अहं की भावना से किसी की भावनाओं को चोट पहुंचा सकते हैं। विद्यार्थियों को एकाग्रता बढ़ाने में मेहनत करनी होगा। धन खर्च में वृद्धि के योग हैं।
सुझाव:-आज आप नारियल की मिठाई भगवान सूर्य को अर्पित करें।
राशिरत्न:-मोती
शुभरंग:-स्लेटी

*सिंह:-* आज आपकी समाजिक मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। वाणी, व्यवहार में उग्रता तथा किसी के साथ अहं का टकराव होने की संभावना हैं। पिता या बुजुर्गों द्वारा लाभ प्राप्त होगा। स्वास्थ्य के संबंध में थोड़ी शिकायत रह सकता है।
सुझाव:-आज आप बच्चों को लेखनी बाटें।
राशिरत्न:-माणिक्य
शुभरंग:-बादामी

*कन्या:-* आज आपको शारीरिक और मानसिक कष्ट के कारण व्यग्रता हो सकती है। किसी के साथ झगड़े-झंझट होने में आपका अहं का टकराव हो सकता है। आकस्मिक धनखर्च का भी योग है। ऐसे में शांत चित्त बने रहना ही लाभदायक है। किसी के साथ विवाद में आज न पड़ें और अपने कार्यों पर फोकस करें।।
सुझाव:-आज आप रक्त पुष्प से माता दुर्गा की आराधना करें।
राशिरत्न:-पन्ना
शुभरंग:-नीला

*तुला:-* आज कार्यों में मिली सफलता आज आपको प्रसन्न रखेगी। मित्रों के साथ मुलाकात, रमणीय स्थानों पर प्रवास आज आपके दैनिक कार्यों का हिस्सा बनेंगे। गृहस्थ जीवन में सुख-शांति का अनुभव करेंगे। महिला मित्रों से मिलना हो सकता है। आय में वृद्धि होगी।
सुझाव:-आज आप लाल ऊनी वस्त्र का दान किसी जरूरतमंद को करें।
राशिरत्न:-हीरा, ओपल
शुभरंग:-समुद्रीहरा

*वृश्चिक :-* आज आपके कार्य निर्विघ्न पूरे होंगे। गृहस्थजीवन में आनंद छाया रहेगा। मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नौकरी-व्यवसाय में प्रगति होगी। उच्च पदाधिकारी और बुजुर्गों की तरफ से लाभ मिलेगा। धन लाभ होगा। व्यापारी वर्ग की बकाया राशि प्राप्त होगी।
सुझाव:-आज आप गरीबों को चावल दान करें।
राशिरत्न:-मूँगा
शुभरंग:-चॉकलेटी

*धनु:-* आज स्वास्थ्य कुछ नरम-गरम रहने की संभावना है। आलस्य हावी हो सकता है। मानसिक रूप से भी चिंता और व्यग्रता सता सकती है। हानिकर विचारों को यथासंभव दूर रहें। आज व्यापार प्रभावित हो सकता है।
सुझाव:-आज आप ऋतुफल का दान करें।
राशिरत्न:-पुखराज
शुभरंग:-महरून

*मकर:-* आज आप अपने खान-पान का ध्यान नहीं रखेंगे तो आज तबीयत खराब हो सकती है। चिकित्सा, प्रवास या व्यापारिक कार्यों के पीछे धन खर्च हो सकता है। नकारात्मक विचारों और क्रोध को दूर रखने से बहुत-सी मुसीबतों से बच जाएंगे।
सुझाव:-आज आप गुड़ का दान किसी सूर्य मन्दिर में करें।
राशिरत्न:-नीलम
शुभरंग:-पर्पल

*कुंम्भ:-* आज आप का व्यापार उत्तमोत्तम रहने की संभावना बन रही है। विपरीत लिंग के व्यक्तियों के साथ परिचय और मित्रता होगी। आनंददायक प्रवास, मनपसंद भोजन, नए वस्त्र आपके आनंद को दोगुना कर सकते हैं।
सुझाव:-आज आप लाल सिंदूर का दान माता रानी के मंदिर में जरूर करें।
राशिरत्न:-नीलम
शुभरंग:-समुद्रीहरा

*मीन:-* घर में सुख-शांति और आनंद का वातावरण बने रहने से आप अपने दैनिक कार्यों को आत्मविश्वासपूर्वक अच्छी तरह कर सकेंगे। हालांकि आपको उग्रता और वाणी की आक्रामकता पर आज संयम रखना पड़ेगा व्यापार से लाभ की संभावना बन सकती है।
सुझाव:-आज आप लाल रंग की रुमाल दान करें।
राशिरत्न:-पुखराज
शुभरंग:-सुनहला

।।आज के दिन का विशेष महत्व।।
1 आज शिशिर ऋतु माघ माह कृष्ण पक्ष षष्ठी तिथि है।
2 आज रविहस्त योग व सर्वाथसिद्धि योग भी है।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।
तनु तिय तनय धामु धनु धरनी। सत्यसंध कहुँ तृन सम बरनी।।
अर्थ:- रानी कैकेयी महाराज दशरथ के मर्मस्थल पर अपने वचनों के तीखे तीखे व्यंग बाणों का प्रहार करते हुवे कहती है कि हे राजन जो सत्यसंघ होता है वह अपने शरीर , पत्नी, पुत्र, राजपाठ और भूमि का यहां तक प्राणों की भी परवाह किये बिना वचन का पालन करने हेतु इन सभी को तिनके के समान त्यग सकता है फिर राजन आप इतने चिंतित क्यों हैं।
“अस्तु कुछ चीजें जो आपकी अतीव गुप्त हों वह किसी से नहीं बतानी चाहिए चाहे धर्म पत्नी ही क्यों न हों।”

।।वास्तु टिप।।
यदि आपको घर में रहते हुवे कोई कष्ट का अनुभव हो तो अपने बेड के नीचे ताँबे के बर्तन में जल भर कर रखना चाहिए। या तकिये के नीचे चाँदी की मछली या कोई वस्तु रखना चाहिए ऐसा तबतक करें जब तक समस्या अनुभव हो।

।।इति शुभम्।।
।।आचार्य स्वामी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद , वास्तुविद व सरस् कथा व्यास।।
।।श्रीधाम श्री अयोध्या।।
संपर्क सूत्र-9044741252

loading...
शेयर करें