महिला की सूझबूझ से बदमाशों को पड़ा भागना, टली बड़ी वारदात

0

देहरादून। उत्तराखंड में एक महिला की वजह से एक बड़ी वारदात टल गयी। मामला शनिवार की रात का है जब बदमाश लूट की फिराक में घर में घुसे थे, लेकिन महिला ने सूझ बूझ के साथ पहले अपने परिवार के लोंगो के बारे में पता किया जब महिला को पता हो गया कि वो इंसान घर का नही है तब महिला ने चिल्ला दिया, जिसके बाद बदमाश रफूचक्कर हो गए। महिला के चीखने के बाद आसपास के लोग इकट्ठा हो गए। लोगों के मुताबिक मां-बेटे समय रहते शोर नहीं मचाते तो शायद बड़ी घटना हो सकती थी।

पुलिस ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि व्यापारी बलदेव डाबर गुरुवार को दिल्ली गए हुए थे। उनकी पत्नी सुनीता डाबर, पुत्रवधू नैंसी व छोटा पुत्र सौरभ घर पर थे। रात में खाना खाने के बाद सभी अपने कमरों में सोने चले गए। सुनीता भी रसोईघर के पास ही बने अपने बैडरूम में सोने चली गई। शुक्रवार तड़के बदमाश रसोईघर की खिड़की का शीशा उखाड़कर घर में घुसने लगे। रसोईघर से आई आहट सुनकर सुनीता की आंख खुल गई।

किसी के घर में होने की आशंका के चलते उन्होंने पुत्र सौरभ को कॉल कर पूछा कि क्या वह नीचे आया है। सौरभ के नहीं कहने पर उसने उसे नीचे बुला लिया। जब सौरभ अपने कमरे से बाहर आया तो मुख्य गेट पर एक बदमाश खड़ा दिखा। इस पर सुनीता और सौरभ ने शोर मचा दिया। मां-बेटे के शोर मचाने पर बदमाश भाग निकले। साथ ही आसपास के लोग भी एकत्र हो गए और पुलिस को सूचना दी। लोगों के मुताबिक मां-बेटे समय रहते शोर नहीं मचाते तो शायद बड़ी घटना हो सकती थी।

loading...
शेयर करें