प्रसव पीड़ा से तड़पती रही महिला, आधार नहीं था तो अस्पताल ने नहीं दी एंट्री

0

नई दिल्ली। दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में एक सिविल अस्पताल ने एक महिला कथित रूप से आधार कार्ड न होने के कारण भर्ती नहीं किया, जिसके बाद उस महिला को इमरजेंसी वार्ड के बाहर ही बच्चे को जन्म देना पड़ा।

गुरुग्राम के चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ। बी के राजोरा ने बताया कि जैसे ही हमें घटना की जानकारी मिली हमने स्टाफ नर्स और डॉक्टर को सस्पेंड कर दिया है।

महिला का नाम मुन्नी देवी है जिसकी उम्र 25 वर्ष बताई जा रही है। महिला के पति ने बताया कि शुक्रवार की सुबह महिला को प्रसव पीड़ा हुई, जिसले बाद हम अस्पताल के कैजुअल्टी वार्ड भारती कराने गए, लेकिन वहा पर हमे लेबर वार्ड में जाने का निर्देश दिया गया।

वह मौजूद डाक्टरों और नर्सों ने कहा कि आधार कार्ड की हार्ड कॉपी लेकर आने पर ही अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। मई रिश्तेदारों को वहां छोड़कर आधार का प्रिंटआउट लेने चला गया।

महिला के रिश्तेदार जब उन्हें दोबारा कैजुअल्टी वार्ड में लेकर गए तब भी भर्ती करने से मना कर दिया गया और बैठने तक की इजाजत नहीं दी गई। प्रसव पीड़ा तेज होने के कारण महिला इमेरजेंसी वार्ड के बाहर ही फर्श पर बच्चे को जन्म दे दिया। इस पूरे घटनाक्रम को देखने के बाद भी अस्पताल प्रशासन संवेदनहीन बना रहा और उसने महिला की मदद करना जरूरी नहीं समझा।

loading...
शेयर करें