नोटबंदी-जीएसटी को फिर फूटा यशवंत सिन्हा का गुस्सा, कहा- जनता जेटली से मांग सकती है इस्तीफा

0

अहमदाबाद| भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर नोटबंदी और जीएसटी को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। सिन्हा ने मंगलवार को नोटबंदी और जीएसटी को विफल बताते हुए कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली के इन दोनों क़दमों की वजह से जनता उनके इस्तीफे की मांग कर सकती है। हालाब्की साथ ही उन्होंने किसी तरह की राजनीतिक टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

यशवंत सिन्हा चुनावी राज्य गुजरात के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। वह लोकशाही बचाओ आंदोलन द्वारा आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में भारतीय अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी व जीएसटी के प्रभाव के बारे में बात कर रहे थे। लोकशाही बचाओ आंदोलन गुजरात में गठित एक समूह है। उन्होंने कहा कि भारत के लोग वित्तमंत्री के अर्थव्यवस्था में मंदी व नोटबंदी व जीएसटी में विफलता के कृत्य के लिए उनके इस्तीफे की मांग कर सकते हैं।

भाजपा के इस वरिष्ठ नेता ने कहा कि मौजूदा सरकार को कुछ दिक्कतें पहले की सरकार से प्राप्त हुईं, जिससे गंभीर रूप से निपटने की जरूरत है। ये गैर निष्पादक संपत्तियां (एनपीए) बैंकिंग क्षेत्र की व देश में 2-25 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रुकी हुई परियोजनाएं हैं।

सिन्हा ने कहा कि साढ़े तीन साल के दौरान रुकी हुई परियोजनाओं में थोड़ी कमी आई है, लेकिन 17-18 लाख करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजनाएं अभी भी रुकी हैं। पुरानी परियोजनाएं आगे नहीं बढ़ीं व कोई नई परियोजना नहीं लाई गई। करीब आठ लाख करोड़ रुपये का एनपीए जो अभी भी बना हुआ, को निपटाया जाना है।

उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार की अंतिम तिमाही में वृद्धि दर 4.7 फीसदी थी, जो कि वर्तमान की संशोधित गणना के अनुसार 6.5 फीसदी बैठती है। मौजूदा वृद्धि दर 5.7 फीसदी है, जो पुरानी पद्धति से गणना के अनुसार 3.5 फीसदी बैठती है।

loading...
शेयर करें

आपकी राय