मंच पर सीएम अखिलेश का छलका दर्द, बोले-इस बार नया साल ऐसा आया कि …

0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में चुनाव का बिगुल बज चुका है।  सभी पार्टियां मैदान में उतर चुकीं हैं।  इसी बीच उप्र प्रवासी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव परिवार में चल रहे कलह को भूलकर इलेक्शन प्रचार में जुट गए हैं।  इस दौरान कलह पर उनका दर्द जुंबा पर आ ही गया।  हालांकि वो पारिवारिक सवालों से बचते आये लेकिन आखिर में उन्होंने बोल ही दिया कि इस बार ऐसा नया साल गुजरा कि हमीं जानते है…, लोग बधाई दे रहे थे…, उन्हें रोकना पड़ा।

अखिलेश यादव

अखिलेश यादव बोले,  मैं तो नेता जी के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री बना

इस कार्यक्रम के दौरान अखिलेश यादव ने न सिर्फ अपने सरकार की उपल्बधियां गिनाईं बल्कि अफसरों की तारीफ भी की उन्होंने कहा- इतने दिनों में अधिकारियों ने हमें पढ़ लिया है तो हमने भी उन्हें पढ़ लिया है। समझ लिया है कि कौन सा हथौड़ा कहां लगेगा और कौन सा नट बोल्ट कहां लगेगा। … , दोबारा लौटेंगे तो ठीक से नट बोल्ट लगाएंगे।

प्रवासी दिवस समारोह में मौजूद मॉरीशस के संस्कृति मंत्री पृथ्वीराज सिंह रूपम द्वारा इससे पहले अपने संबोधन मे मुख्यमंत्री को मॉरीशस आमंत्रित कर चुके थे। मुख्यमंत्री ने इस पर भी चुटकी ली। बोले- मॉरीशस जाने पर हां कह दूं तो सोचो उसका मतलब क्या निकलेगा।

पत्रकारों ने जब अखिलेश यादव से परवर से समझौते के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि नेताजी के आशीर्वाद से ही मै मुख्यमंत्री बना था, मैने काम किए है और अब समाजवादी विचारधारा को ही लेकर चलूंगा और विजयी बनाऊंगा। उन्होंने कहा कि जनता ने मन बना लिया है कि किसे चुनना है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रवासियों को उत्तर प्रदेश अप्रवासी भारतीय रत्न अवार्ड से भी सम्मानित किया। मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने दूसरे प्रवासी दिवस पर सभी का स्वागत करते हुए प्रवासियों को वास्तविक एंबेसडर बताया।

ये भी पढ़ें : 2 बंदियों ने जेल में खाया जहर, प्रशासन में मचा हडकंप

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कॉफी टेबल बुक व वेबसाइट लॉन्च की। एनआरआइ विभाग के प्रमुख सचिव रमा रमन ने सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस दौरान सीएम ने ज्ञानेंद्र कुमार, पीयूष गोयल, अजेश बसंथरन महाराज, कृष्ण कुमार पांडेय, अदिति श्रीवास्तव, जितेन के।.अग्रवाल, तबस्सुम मंसूर, शेर बहादुर सिंह, प्रतिभा शालिनी तिवारी, राजीव भांबरी, सुरेशचंद्र शुक्ल, सुधीर राठौर, वीना भटनागर, विनोद गुप्ता व सर विद्याधर सूरजप्रसाद नैपॉल को सम्मानित किया।

Edited By: Harshita

loading...
शेयर करें