अधिक मात्रा में न करे गुड़ का सेवन, हो सकती है ये बीमारियां

0

नई दिल्ली। गुड़, ईख, ताड़ आदि के रस को उबालकर कर सुखाने से प्राप्त होने वाला ठोस पदार्थ है, प्राकृतिक पदार्थों में सबसे अधिक मीठा कहा जा सकता है। अन्य वस्तुओं की मिठास की तुलना गुड़ से की जाती हैं। कई पोषक तत्वों से भरपूर गुड़ ज्यादातर लोगों को पसंद होता है।गावों में तो इसका सेवन खूब करते है।

बता दे कि गुड़ के सेवन से शरीर में एनर्जी तो मिलती ही है, इसके साथ ही ये मेटाबॉलिज्म को भी मजबूत करता है। गुड़ का इस्तेमाल कई सारी बीमारियों से बचने के लिए भी किया जाता है, जैसे जब हमे चक्कर आता है या फिर घबराहट होने लगती है तो उस समय घरेलु उपचार के लिए हम सबसे पहले गुड़ का सेवन करते है जिससे हमे कुछ हद तक आराम मिलता है।

किसी भी चीज कि अधिकता अकसर हमे नुकसान पहुचाती है ऐसे ही गुड़ की मात्रा जब ज्यादा हो जाती है तो यह हमारे शरीर को नुकसान पहुचाती है। गुड़ से हमारे वजन में बढ़ोत्तरी होती है और साथ ही पैरासिटिक इन्फेक्शन भी हो सकता है. पैरासिटिक इन्फेक्शन तब होता है जब गुड़ सही और स्वच्छ तरीके से तैयार न किया गया हो गुड़ ज्यादातर गांव में अस्वच्छ तरीके से बनाया जाता है, जिस वजह से इसे खाने के बाद कई लोगों की सेहत को नुकसान पहुंचता है।

सबसे अहम बात गुड़ गर्मियों में खाने से बचे क्योंकि गुड़ कि तासीर गर्म होती है, जिस वजह से नाक से खून निकलने का भी डर रहता है इसलिए सिर्फ इसका सेवन सर्दियों में ही करे।

loading...
शेयर करें