अब किसी भी थाने में कर पाएंगे शिकायत, प्रार्थना-पत्रों को रिसीव न करने पर थाना प्रभारी पर होगी कार्यवाही

देहरादून। पुलिस मुख्यालय उत्तराखंड पर जनता से यह शिकायत प्राप्त हो रही है की उनके शिकायती प्रार्थना-पत्रों को थाने पर रिसीव नहीं किया जाता है। इस पर अशोक कुमार एडीजी लॉ एंड ऑडर द्वारा एक बड़ा कदम उठाया गया है। उन्होने प्रदेश के सभी जनपद प्रभारियों को सर्कुलर जारी करते हुए आदेश दिया कि थानों पर मिलने वाली शिकायतो औऱ प्रार्थना-पत्रों को रिसीव न करने की कार्य प्रणाली को समाप्त किया जाये और किसी भी क्षेत्र के  प्रार्थना पत्र को किसी भी थाने में स्वीकार किया जाए।

dekhradoon

भविष्य में जिस थाने से पीड़ित के शिकायती प्रार्थना-पत्र को रिसीव न करने की शिकायत प्राप्त होती है, तो उस थाना प्रभारी के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही की जाये। इसके लिए अपर पुलिस अधीक्षकों व क्षेत्राधिकारियों की भी जिम्मेदारी तय की जाये।

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार ने कहा की पीड़ित को पुलिस की कार्यवाही से न्याय की उम्मीद रहती है। यदि थाने पर पीड़ित के शिकायती प्रार्थना पत्र को रिसीव कर लिया जाता है और सक्षम अधिकारी द्वारा पीड़ित के प्रार्थना-पत्र की जांच कर वैधानिक कार्यवाही कि जाती है, तब पीड़ित का पुलिस पर विश्वास बढ़ता है और पुलिस की इस त्वरित कार्यवाही से पुलिस की अच्छी छवि बनती है। इससे समाज में पुलिस के प्रति जो भय बना हुआ है वो भी समाप्त होगा।

Related Articles