अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के नाम पर IOSIS कंपनी पर करोड़ों रुपए की ठगी का आरोप

लखनऊ। बाॅलिवुड की मशहूर अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के नाम पर करोड़ों की ठगी का मामला सामने आया है। मिदासदीप इंटरप्राइजेज के संचालक व पार्टनर रोहितवीर सिंह ने हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज करवाई है। रोहितवीर का आरोप है कि आयोसिस की एमडी किरण बावा ने शिल्पा शेट्टी को आयोसिस कम्पनी का ब्रांड एम्बेसडर बताते हुए फ्रेंचाइजी व निवेश शुल्क के नाम पर उनसे व कई अन्य लोगों से करोड़ों रुपए की ठगी की है। इस मामले में कम्पनी की एमडी सहित छह लोगों को नामजद किया गया है। हजरतगंज पुलिस इस मामले में कम्पनी की एमडी किरण बावा को लखनऊ लाकर बयान दर्ज कराने की तैयारी में है।

लखनऊ महानगर एक्सटेंशन के सेक्टर-1 निवासी रोहितवीर सिंह मिदासदीप इंटरप्राइजेज के संचालक व पार्टनर हैं। तहरीर में उन्होंने बताया कि वर्ष 2018 में आयोसिस स्पा एन्ड वेलनेस प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजर ने उन्हें कम्पनी का कार्यालय हजरतगंज में स्थित होने की जानकारी दी। मैनेजर ने उन्हें यह भी बताया कि कम्पनी खुद फ्रेंचाइजी देने का काम करती है। कहा गया कि वह अपनी फर्म मिदासदीप को बदल कर उसका डायरेक्टर बनकर फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

इसके लिए रोहितवीर को आयोसिस कम्पनी के मुंबई स्थित मुख्यालय भी बुलाया गया। यहां उनकी मुलाकात कम्पनी की एमडी किरण बावा से हुई। किरण बावा ने कम्पनी का ब्रांड एम्बेसडर मशहूर अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी होने की बात कही। उसके दफ्तर में शिल्पा शेट्टी के कई पोस्टर व बैनर भी मौजूद थे। पोस्टर में अभिनेत्री कम्पनी का प्रचार करते हुए दिख रहीं थी। किरण बावा ने कई दस्तावेज दिखाए तो रोहितवीर ने भरोसा कर लिया।

रोहितवीर का आरोप है कि कम्पनी के अधिक मुनाफे में चलने का झांसा देकर किरण बावा ने उनसे सादे पन्ने पर हस्ताक्षर करा लिए। किरण बावा ने हजरतगंज में दफ्तर के उद्घाटन के समय शिल्पा शेट्ठी के आने और समय-समय पर दिशा-निर्देश और मीटिंग करने का भी झांसा दिया। फ्रेंचाइजी के लिए रजिस्ट्रर्ड एग्रीमेंट भी दिए जाने की बात कही। जिस पर भरोसा कर मैंने कई सादे कागजों पर हस्ताक्षर कर दिए।

नियुक्त का स्टाफ कर रहा था चोरी व कालाबाजारी

उनके अनुसार यह सारा काम आयोसिस के द्वारा नियुक्त कर्मचारियों द्वारा ही किया जाना था जबकि सामान, कर्मचारियों का वेतन, भवन का किराया, बिजली का बिल व अन्य खर्चे रोहितवीर को देने थे। कम्पनी का एक सॉफ्टवेयर भी मिला, जिसका शुल्क 18 हजार रुपये था। सॉफ्टवेयर का संचालन मुम्बई से होता था। रोहितवीर का आरोप है नियुक्त किया गया स्टाफ लगातार चोरी और कालाबाजारी कर रहा था, जिसकी शिकायत उन्होंने एमडी से की। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आरोप है कि शिकायत करने पर सॉफ्टवेयर बन्द करने का हवाला देकर एमडी किरण बावा और डायरेक्टर विनय भसीन ने धमकाया भी था, जिसके बाद रोहितवीर चुप हो गए।

कंपनी के अधिकारियों ने मारपीट की

कुछ समय बाद उन्हें एक एग्रीमेंट मिला। जिसमे सारे अधिकार कम्पनी को मिले थे। रोहितवीर ने बताया कि जब उन्होंने आपत्ति जताई तो शिल्पा शेट्टी का नाम लेकर चुप करा दिया गया और मैं घाटा सहता रहा। रोहितवीर का आरोप है कि उनका लगातार मानसिक, शारीरिक और आर्थिक शोषण किया जा रहा। जुलाई 2019 में किरण बावा लखनऊ के हयात होटल आई थी। तब रोहितवीर ने सारी परेशानी एक बार फिर सामने रखी। किरण बावा ने बात को टाल दिया। रोहितवीर ने बताया कि उनके साथ मामले में एरिया सेल्स मैनेजर और नेशनल मार्केटिंग हेड ने मारपीट भी की थी। जिसका मेडिकल बलरामपुर में हुआ था। मामले में उन्होंने हजरतगंज कोतवाली में तहरीर भी दी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

लगातार जान-माल की दी जा रही धमकी

रोहितवीर का आरोप है कि एकतरफा एग्रीमेंट करने के चलते कम्पनी ने मुंबई में उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज करवा दिया और उनका सेंटर भी बन्द करवा दिया गया। पीड़ित रोहितवीर का आरोप है कि उन्हें लगातार जानमाल की धमकी दी जा रही है। पीड़ित ने इसे लेकर हजरतगंज में मुकदमा दर्ज करवाया है।

किरण बावा के खिलाफ पहले भी दर्ज हो चुका है मुकदमा

लखनऊ के विभूतिखण्ड थाने में किरण बावा एवं अन्य के खिलाफ ओमेक्स हाइट्स में रहने वाली ज्योत्सना चैहान ने मुनाफे का झांसा देकर करोड़ों की ठगी का आरोप लगाते हुए बीते 19 जून को एफआईआर दर्ज करवाई थी। पुलिस ने इस मामले में भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है

Related Articles