आजम खां ने किया अलवर में गौ रक्षा का विरोध, शंकराचार्य को लौटाई काली गाय

0

नई दिल्ली। अलवर में गौ रक्षा के नाम पर पहलू खान की हत्या का विरोध जताने के लिए पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खान ने एक नया रास्ता चुना है। उन्होंने मथुरा के शंकराचार्य से उपहार में मिली गाय को उन्हें वापस लौटा दी है। आजम खान का कहना है कि मौजूदा माहौल में गौरक्षक दल किसी मुसलमान के पास गाय देखकर कुछ भी कर सकते हैं।

अलवर में गौ रक्षा

अलवर में गौ रक्षा को लेकर दिया बड़ा बयान

मथुरा के शंकराचार्य ने दो साल पहले आजम खान को भेंट स्वरूप एक काली गाय दी थी लेकिन अब ये गाय आजम खान ने उन्हें वापस भिजवा दी है। आजम खान का कहना है कि जिस तरह से गौरक्षा के नाम पर अलवर में पहलू खान की हत्या हुई है, उस तरह की कोई वारदात उनके साथ भी हो सकती है। आजम खान ने इस बारे में बताते हुए कहा है कि अगर कोई षड़यंत्र हो गया, कुदरती तौर पर कोई बीमारी हो गई या ऊंच नीच हो गई…तो पता नहीं क्या सजा गौरक्षक मुझे दे देंगे।

पहलू खां की हुई थी हत्‍या

अलवर में गौरक्षा के नाम पर पहलू खान की हत्या केवल इस शक के आधार पर की गई कि एक मुसलमान अपनी गाड़ी में गाय लेकर जा रहा था। हत्यारी भीड़ की इसी सोच का विरोध करने के लिए आजम खान ने शंकराचार्य को गाय किसी मुसलमान के हाथों नहीं भिजवाई।

मोहन भागवत के बयान पर दी प्रतिक्रिया

आजम खान ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी जिसमें उन्होंने गोहत्या के खिलाफ पूरे देश में एक कानून बनाने की बात कही है। आजम खान ने कहा, ‘राष्ट्रपित के लिए भी नाम है उनका… ये अच्छा नहीं लगता कि एक गाय के नाम पर लोग अपनी जान गंवा रहे हैं और कुछ राज्यों में कानून से गाय कटती है।

loading...
शेयर करें