औवेसी ने दिया विवादित बयान, कहा मुसलमानों को सम्मान बचाना है तो करें शक्ति का प्रदर्शन

0

अलीगढ़। एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। असदुद्दीन ओवैसी आये दिन कोई न कोई बयान देकर चर्चाओं में रहते हैं। इस बार औवेसी ने जलीकट्टू मामले में तमिलनाडु की जनता की मिशाल देते हुए कहा कि जिस तरह से वहां की जनता ने अपनी संस्कृति बचाने के लिए पूरे प्रदेश को बंद कर दिया था उसी तरह से देश के मुसलमानों को अपनी इज्जत और सम्मान बचाना है तो ऐसे ही शक्ति का प्रदर्शन करें।

असदुद्दीन ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने अखिलेश और पीएम मोदी को बताया छोटे मियां-बड़े मियां

असदुद्दीन ओवैसी अलीगढ़ में पार्टी के प्रत्याशी की चुनावी सभा को सम्बोधित करने आये थे। ओवैसी ने कहा कि अब अपनों का साथ दें, मुसलमानों ने 65 साल दूसरों पर भरोसा किया, अब अपनों पर भरोसा करे मुसलमान। उन्होंने एएमयू के अल्पसंख्यक स्वरूप बहाल कराने के लिए संघर्ष की बात करते हुए कहा कि इस्लामिक मुल्क के नेता का प्रधानमंत्री इस्तेकबाल झुककर कर रहे हैं। इसके बावजूद कि उनके दाढ़ी है तो फिर अपने मुल्क के दाढ़ी वालों से मोदी को नफरत क्यों है।

ओवैसी ने कहा की जो लोग हमें ये बता रहे हैं कि हम निकाह कैसे करें, तलाक कैसे दें, उनको मालूम होना चाहिए कि ये हमारी हजारों साल पुरानी संस्कृति है। जैसे तमिलनाडु के लोगों ने अपनी संस्कृति की हिफाजत की है, हम भी करेंगे। औवेसी ने अखिलेश और मोदी को छोटे मियां, बड़े मियां कहते हुए कहा कि दोनों विकास की बात कर रहे हैं, लेकिन दोनों ने विनाश किया है। अखिलेश ने 2012 में कहा था कि कोई दंगा नहीं होगा लेकिन मुजफ्फरनगर में दंगा हुआ।

2012 में वादा किया था कि बेगुनाह जेल में बंद मुस्लिम युवकों को छोड़ा जाएगा, लेकिन नहीं छोड़ा गया। उन्होंने कहा कि अखिलेश पहले अपने बाप के हो जाएं, फिर गरीबों के होने की बात करें। ओवैसी ने सपा के नए घोषणापत्र में स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को घी देने वाले वायदे का मजाक उड़ाते हुए कहा कि कौन सी भैंस के दूध का घी देंगे। नेता जी की एक भैंस तो बाहर भाग चुकी है। सपा कमजोरों को इंसाफ देने की बात करती है लेकिन यूपी के जेलों में सबसे ज्यादा दलित और मुस्लिम बंद हैं। सपा और भाजपा एक सिक्के के दो पहलू हैं।

Edited by- Shailendra verma

loading...
शेयर करें