यूपी मेरे बाप का है, मैं यहां बार-बार आऊंगा

0

अलीगढ। उत्तर प्रदेश में अपनी सियासी जमीन तलाश रहे ऑल इण्डिया मजलिस इत्तिहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी शुक्रवार को अलीगढ में थे। इस दौरान असदुद्दीन ओवैसी ने अखिलेश, मुलायम पर जमकर निशाना साधा। इसके साथ ही नोटबंदी पर पीएम मोदी को भी जमकर कोसा।

असदुद्दीन ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी को कॉमेडी आर्टिस्ट बताया 

आपको बता दें इससे पहले भी ओवैसी ने कई बार यूपी आने की कोशिश की लेकिन उन्हें अनुमति नहीं मिली। इसी को लेकर  मंच पर आते ही असदउद्दीन ओवैसी ने कहा कि उत्तर प्रदेश मेरे बाप का है, मैं यहां दोबारा आऊंगा, बार-बार आऊंगा, यह किसी मुलायम सिंह या किसी अखिलेश की जागीर नहीं है। उत्तर प्रदेश में बाबा साहेब अंबेडकर का संविधान लागू है,किसी यादव परिवार का फरमान नहीं चलता है। 

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि नोटबंदी के फैसले से सबसे ज्यादा परेशान गरीब आदमी है। 40 करोड़ आदमी नाम तक नहीं लिख सकता। केवल 3 फीसदी लोगों के पास डेबिट, क्रेडिट कार्ड है। बैंकों की लाइन में लगकर लोग मर रहे हैं और मोदी जी जापान जाकर हंस रहे हैं। जैसे कि वह कोई पीएम न हों, कॉमेडी शो के आर्टिस्ट हों। ओवैसी ने कहा कि इस फैसले से करप्शन नहीं, गरीब खत्म हो जाएगा। मुझे बताया गया कि अलीगढ़ का ही कारोबार बहुत मंदा हो गया है। वह गरीब लोग जिनका कहीं निवेश नहीं है, जिनके जीने का आधार कैश ही, वही परेशान हैं। मुसलमानों के लिए क्या किया मुस्लिम विधायकों नेअसदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सपा और भाजपा की मिलीभगत का आप अंदाजा लगाइए। बदायूं के नजीब अहमद के घर सपा के ही सांसद हैं, नहीं जाते।

लेकिन मुलायम सिंह के यहां शादी में मोदी जी आते हैं। यह क्या नौटंकी है? क्या यही सपा की मुसलमानों के साथ सहानुभूति है। इसके अलावा चुनाव के समय सेक्युलर पार्टियां मुसलमानों से चाहती हैं कि वह सेक्युलर पार्टी को वोट दें। क्या सेक्युलरिज्म का सारा बोझ मुसलमान ही उठाएंगे? ओवैसी ने बीजेपी औए समाजवादी पार्टी पर जमकर प्रहार किये उन्होंने कहा कि अलीगढ़ में दो मुसलमान विधायक हैं, इन्होंने मुसलमानों के लिए क्या किया? विकास के लिए भी क्या किया? अलीगढ़ आया तो सड़कों पर गड्ढे ही गड्ढे हैं। 

उन्होंने कहा कि मोदी शरीयत में तीन तलाक के बहाने दखल देने का ऐलान कर चुके हैं। जबकि गोवा में कानून है, कि 25 साल तक अगर किसी हिन्दू बहन को बच्चा नहीं हो, तो पति दूसरी शादी कर सकता है। क्या मोदी ने इसको बदलने की बात कही। इसी तरह 2011 की जनगणना में पता चला कि 11 वर्ष की बच्ची की शादी की दर गैर मुसलमानों में ज्यादा थी। क्या इसकी बात हुई। दूसरी ओर मुसलमानों में तलाक की दर एक फीसदी से भी कम है। 

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि खुद को सेक्युलर कहलवाने वाली समाजवादी पार्टी की सरकार में मुज़फ्फ़रनगर में दंगों के दौरान कत्लेआम किया गया, 50हज़ार से ज्यादा मुसलमान शरणार्थियों की तरह ज़िंदगी गुज़ार रहे हैं। क्या यही है मुसलमानों से मोहब्बत। ओवैसी ने जनता से कहा कि 2017 के उत्तर प्रदेश चुनाव में मजलिस के उम्मीदवारों को जीता कर भेजो। संसद में एक ही तो ओवैसी है और जब उत्तर प्रदेश में इतने ओवैसी होंगे तो अंदाज़ा लगाओ लो, क्या नहीं कर सकते। 
 

loading...
शेयर करें