अभी-अभी : पाकिस्तान को सबक सिखाने खुद पीएम मोदी जा रहे हैं नवाज शरीफ से मिलने!

1

अस्‍टाना। कजाकिस्तान की राजधानी अस्टाना में पीएम मोदी और पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ की मुलाकात हो सकती है। खबरें के मुताबिक ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं। हालांकि विदेश मंत्रालय साफ़ कर चुका है कि अस्टाना में मोदी और नवाज़ शरीफ़ के बीच कोई मुलाक़ात तय नहीं है। भारत ने ऐसी मुलाक़ात का कोई प्रस्ताव नहीं दिया है और न ही पाकिस्तान की तरफ़ से ही ऐसी कोई पेशकश हुई है।

अस्टाना में मोदी और नवाज़

अस्टाना में मोदी और नवाज़ की मुलाकात पर संशय बरकरार

भारत को कजाकिस्तान में 8-9 जून को होने वाले शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के शिखर सम्मेलन में इस क्षेत्रीय संगठन में पूर्णकालिक सदस्य के तौर पर शामिल किया जायेगा। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद होंगे। अस्ताना में शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच द्विपक्षीय मुलाकात की भी संभावना है। इस बार भारत के साथ-साथ पाकिस्तान को इस संगठन की सदस्यता मिलने वाली है। बैठक में भारत का जोर पाकिस्तान को बेनकाब पर रहेगा।

शंघाई सहयोग संगठन में शामिल देशों के नेता दुनिया की आधी जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं। मिलिट्री सहयोग,  इंटेलिजेंस का अदान प्रदान और आतंकवाद के खिलाफ साझेदारी इस संगठन का मुख्य उद्देश्य है। भारत दुनिया में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई एक सबसे बड़ा चेहरा बनकर उभरा है, इसलिए भी भारत को इसका हिस्सा बनाया जा रहा है। एससीओ के सभी पुराने देश चाहते हैं कि भारत और पाकिस्तान अपने रिश्तों पर ज़मीं बर्फ़ पिघलाएं। याद हो कि उफ़ा में 2015 में भी दोनों प्रधानमंत्री एससीओ बैठक के दौरान ही मिले थे और बातचीत के पटरी पर लाने की कोशिश की शुरुआत की थी। लेकिन पाकिस्तान की नापाक हरकतों के चलते ये संभव नहीं हो सका।

मोदी ने क्या कहा

मोदी ने अस्ताना रवाना होने से पहले अपने बयान में कहा, हमने पिछले साल एससीओ की ताशकंद बैठक के दौरान पूर्णकालिक सदस्यता की प्रक्रिया शुरू की थी। मैं एससीओ के साथ भारत के गहरे सहयोग की कामना करता हूं, जिससे हमें अन्य चीजों के साथ-साथ आर्थिक, संपर्क तथा आतंकवाद-रोधी सहयोग में मदद मिलेगी।

loading...
शेयर करें

1 टिप्पणी