कुछ ही घंटों में आंध्र प्रदेश में तबाही मचाने आ रहा है ‘वर्धा’

0

विशाखापट्टनम: बंगाल की खाड़ी पर बने चक्रवाती तूफान ‘वर्धा’ के अगले 12 घंटों में और भीषण होने की संभावना है। मौसम विभाग ने शनिवार को यह जानकारी दी। बंगाल की खाड़ी में दक्षिणी-पूर्वी क्षेत्र में बना चक्रवाती तूफान अभी विशाखापट्नम से 990 किलोमीटर की दूरी पर, मचिलिपट्टनम से 1,090 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व में है। इस चक्रवात से आंध्र प्रदेश के भी कई इलाकों के  प्रभावित होने का अनुमान जताया जा रहा है।

आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश होने की संभावना

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, इसके उत्तर पश्चिमी क्षेत्र की ओर और फिर पश्चिम- उत्तर पशिम की ओर बढ़ने के बाद 12 दिसंबर की दोपहर या शाम के आसपास नेल्लोर और काकिनाडा के बीच आंध्र प्रदेश के तट को पार करने की संभावना है।

मौसम विभाग के अनुसार, इस चक्रवात के प्रभाव से रविवार को तटीय आंध्र प्रदेश के कई इलाकों में बारिश होने और पूर्वी गोदावरी, पश्चिमी गोदावरी, कृष्णा, गंटूर और प्रकाशम जिलों में भारी से अत्यधिक भारी बारिश की संभावना है।

मौसम विभाग ने सोमवार को विशाखापट्टनम, विजियनगरम और श्रीककुलम जिलों को छोड़कर तटीय आंध्र के सभी जिलों में कुछ स्थानों पर भारी से लेकर अत्यधिक भारी बारिश की संभावना जताई है। विभाग के अनुसार, शनिवार से तटीय आंध्र प्रदेश में और तट से दूर 45 से 50 और 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है।

खराब मौसम को देखते हुए आंध्र प्रदेश के तट पर और तट से दूर मछुआरों को समुद्र में न जाने और पहले से ही समुद्र में मौजूद मछुआरों को लौटने की सलाह दी गई है। इसी बीच, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने एक टेलीकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों से बात कर स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने सभी तटीय जिलों के कलेक्टरों को सतर्क रहने और जरूरी एहतियाती कदम उठाने को कहा है। साथ ही मछुआरों  को भी अलर्ट जारी कर दिया गया है।

loading...
शेयर करें