अब मोबाइल पर मिलेगा भूकंप अलर्ट

0

आईआईटी रुड़कीदेहरादून। भूकंप से सबसे ज्यादा तबाही होती है। हाल ही में उत्तराखंड में भूकंप से भारी तबाही की आशंका जताई गई है। जिसको देखते हुए आईआईटी रुड़की के स्टूडेंट्स ने एक ऐसा मोबाइल एप बनाने की कोशिश कर रहा है। जो भूकंप आने से पहले ही आपको अलर्ट कर देगा।

आईआईटी रुड़की में जारी किया जाएगा भूकंप अलर्ट

योजना के सफल होने पर आईआईटी रुड़की देश का ऐसा पहला संस्थान होगा, जहां पर छात्रों को भूकंप अलर्ट जारी किया जा सकेगा। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के प्रोजेक्ट के तहत आईआईटी का आपदा न्यूनीकरण और प्रबंधन उत्कृष्टता केंद्र गढ़वाल में उत्तरकाशी से लेकर चमोली तक 84 सेंसर लगा चुका है। अब कुमाऊं में भी एक सौ सेंसर लगाए जाने की योजना है।

गढ़वाल क्षेत्र में लगे सेंसर के माध्यम से संस्थान को डाटा भी उपलब्ध हो रहा है। इसकी सफलता के बाद अब अर्ली वार्निंग सिस्टम से संस्थान को भी लैस किया जा रहा है। इसके तहत एक ऐसा एप तैयार किया जा रहा है। जो सेंसर लगे क्षेत्र में भूकंप आने की सूचना छात्रों को मोबाइल पर चंद सेकंड में उपलब्ध करा देगा।

अर्ली वार्निंग सिस्टम प्रोजेक्ट के प्रिंसिपल इन्वस्टिगेटर और आईआईटी के भूकंप अभियांत्रिकी विभाग के प्रो. अशोक कुमार माथुर के मुताबिक इस एप को सभी छात्र अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि संस्थान की लैब में पहले से ही उत्तरकाशी से लेकर चमोली तक के क्षेत्र में लगे सेंसर से डाटा उपलब्ध हो रहा है। इंटरनेट के माध्यम से इन्हें आपस में जोड़ा जाएगा। इसके बाद छात्रों को चेतावनी जारी की जा सकेगी। इसके लिए डीन आफ स्टूडेंट वेलफेयर से भी बात की जा रही है।

 

loading...
शेयर करें