कबाड़ में बिकेगा या फिर म्यूजियम में तब्दील होगा नेवी का युद्धपोत ‘INS विराट’

0

नई दिल्ली। इंडियन नेवी देश के सबसे पुराने जंगी बेड़े आईएनएस विराट के कबाड़ में जाने का खतरा मंडरा रहा है। 58 साल पुराना यह युद्धपोत 30 साल से इंडियन नेवी को अपनी सर्विस दे रहा था। 6 मार्च को यह अपनी सर्विस से रिटायर हो जाएगा। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, 27800 टन के इस एयरक्राफ्ट करियर को मजबूरन कबाड़ में बेचना पड़ सकता है।

आईएनएस विराट

आईएनएस विराट 1987 में इंडियन नेवी में हुआ था शामिल

हालांकि, अभी तक इसे म्यूजियम में तब्दील करने के प्रस्ताव पर मामला आगे नहीं बढ़ा है। मालूम हो कि इसे इंडियन नेवी में 1987 में शामिल किया गया था। इससे पहले, रॉयल ब्रिटिश नेवी में इसने 27 साल सेवाएं दीं। कबाड़ में बेचे जाने की एक वजह आंध्र प्रदेश सरकार और केंद्र के बीच इस बात का विवाद है कि इसे म्यूजियम में तब्दील करने का पैसा कौन देगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,13 मंजिले ऊंचे आईएनएस विराट को प्रस्तावित म्यूजियम में तब्दील करने में करीब 1 हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा। आंध्र प्रदेश सरकार इस बेड़े को लेने की तो इच्छुक है, लेकिन वह चाहती है कि रक्षा मंत्रालय आधा खर्च दे।’

वहीं, मंत्रालय का कहना है कि वह तकनीकी मदद और सुझाव तो दे सकता है, लेकिन फंड नहीं। नेवी 5 लाख नॉटिकल मील (करीब 9 लाख 30 हजार किमी) का सफर कर चुके आईएनएस विराट के समृद्धशाली इतिहास को संजो कर रखने के मूड में है। वह नहीं चाहती कि इस हश्र वही हो जो भारत के पहले एयरक्राफ्ट करियर आईएनएस विक्रांत के साथ हुआ था।

नेवी फिलहाल आईएनएस विराट के डेक से ऑपरेट होने वाले 11 सी हैरिअर जंप जेट्स को देश भर में स्थित विभिन्न रक्षा प्रतिष्ठानों में बतौर प्रतीक स्थापित करने की तैयारी कर रही है। जंप जेट्स वे फाइटर जेट्स होते हैं, जो बिना रनवे के वर्टिकल टेकऑफ या छोटे रनवे पर टेकऑफ में सक्षम होते हैं।

Edited by- Jitendra Nishad

loading...
शेयर करें