आईएस के कब्जे से मुक्त हुआ हमदनिया शहर, अब नहीं बचेगा बगदादी

0

बग़दाद: इराकी सुरक्षा बलों ने अमेरिकी सैनिकों के साथ मिलकर मोसुल के निकट हमदनिया शहर को आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के कब्जे मुक्त करा लिया है। शहर के आसपास के अन्य इलाकों को कब्जे में लेने के लिए भीषण लड़ाई जारी है। बताया जा रहा है अब आईएस के संस्थापक और खुद को इस्लाम का खलीफा कहने वाले अबू बक्र अल बगदादी का आखिरी समय आ गया है। अब देखना यह है कि सात बार मौत को बात दे चुका बगदादी खुद को किस तरह बचाता है।

आईएस आतंकी

आईएस आतंकी की कैद से मुक्त हुआ हमदनिया

एक सूत्र ने कहा कि इराकी सेना ने शनिवार सुबह मोसुल के दक्षिणपूर्व में 40 किलोमीटर दूर स्थित हमदनिया शहर पर अनेक दिशाओं से हमले किए और आतंकियों के साथ भीषण लड़ाई के बाद शहर पर कब्जा कर लिया।

सूत्र के अनुसार, जवानों ने स्थानीय सरकारी भवनों पर इराकी झंडे फहराए। यह शहर बखदिदा के नाम से भी जाना जाता है। आईएस आतंकियों के भागने के बाद सेना ने पास में ईसाइयों के गांव करमलिस पर भी कब्जा कर लिया। मोसुल के पूर्व और उत्तरपूर्व में स्थित इराक के उत्तरी प्रांत की राजधानी नीनवे के मैदानी इलाके में इराकी सेना और आईएस के आतंकियों के बीच भीषण लड़ाई चल रही है।

बड़े मैदानी इलाके के शहरों और गांवों में अनेक धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यक समुदायों के लोग रहते हैं, जिनमें अधिकांश असीरियाई ईसाई हैं। अस्त-व्यस्तता और बढ़ती असुरक्षा के बीच अल्पसंख्यक समुदायों के अनेक सदस्य मैदानी इलाके छोड़कर चले गए, जिसके बाद साल 2003 में अमेरिका के नेतृत्व में हमले हुए।

साल 2014 में गैर सुन्नी मुसलमानों का दूसरा पलायन तब हुआ, जब आईएस आतंकी संगठन ने नीनवेह और इराक के उत्तरी और पश्चिमी क्षेत्र के अधिकांश भागों पर कब्जा कर लिया।

आपको बता दें कि पूरी दुनिया को खौफ में जीने के लिए मजबूर करने की हसरत रखने वाले आईएस आतंकी अब खुद दहशत के साए में हैं। इराकी और कुर्दिश सेना ने आईएस के कब्जे वाले मोसुल में उसके खिलाफ जंग तेज कर दी है। हालात ये हैं कि आतंकियों का हौसला टूटने लगा है। वे बुर्के पहनकर भागते नजर आ रहे हैं।

 

loading...
शेयर करें