इस एंड्रोइड फोन में हैं ऐसे फीचर्स जो आईफोन में भी नहीं

0

आईफोननई दिल्ली। आईफोन के फोन का कोई जवाब नहीं होता है। मौजूदा समय में आईफोन सबसे अच्छा सबसे बेहतर फोन माना जाता है। ऐसा भी है कि अगर किसी के पास आईफोन नहीं है तो वो लोग खुद को दूसरे से कम आंकते हैं।लेकिन अगर आपके पास आईफोन नहीं है,तो किसी को भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। अब आप भी ऐसा एंड्रोइड फोन पा सकते हैं जिनकी खूबियाँ आईफोन से भी बेहतर हैं।

आईफोन , एंड्रोइड फोन है सबसे बेहतर

यूज़र्स हमेशा अपने फोन की बैट्री की समस्या से परेशान रहते हैं। Iphone  के पुराने मॉडल्स और नए मॉडलों के फोनों में चार्जर का अंतर है। Iphone सिर्फ अपने ही चार्जर से चार्ज होता है, जबकि एंड्रोइड के साथ ये समस्या नहीं है। एंड्रोइड में चार्जिंग किसी भी चार्जर से की जा सकती है, बशर्ते वो इसमें फिट आता हो।

सस्ते फोन में भी मेमोरी को लेकर हमेशा समस्याएं रहतीं हैं। ऐसे में ओटीजी एंड्रोइड यूजर्स के लिए वरदान की तरह है। वो किसी भी ओटीजी इनेबल्ड पेन ड्राइव को बाहरी मेमोरी के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं, पर आईफोन में ये फीचर नहीं है।यह सुविधा आपको आईफोन में भी नहीं मिलेगी। एंड्रोइड के नए फोनों में ये सुविधा है।आईफोन का सबसे बड़ी बुराई है कि उसमें आप डबल सिम इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। ऐसे में आईफोन वाले भी एंड्रोइड की तरफ भाग रहे हैं। इस एंड्रोइड फोन में स्टोरेज क्षमता बढ़ा सकते हैं। लेकिन आईफोन आज भी पुराने ढर्रे पर है।

एंड्रोइड के 5th जेनरेशन के फोनों में गेस्ट मोड की सुविधा है, जिससे आपके बच्चे या कोई भी फोन का लिमिटेड इस्तेमाल कर सकता है। आपका डाटा भी सुरक्षित रहता है और काम भी चल जाता है। पर Iphone  में गेस्ट मोड का ऑप्शन नहीं है।एंड्रोइड फोन वालों के पास सबसे बड़ा प्लस प्वॉइंट यह है कि कई बार हमें कॉल रिकॉर्डिंग की ज़रुरत पड़ती है लेकिन वहीं Iphone के यूजर अब भी इस सुविधा के लिए तरस रहे हैं। आप अपने एंड्रोइड फोन को कंप्यूटर या लैपटॉप से कनेक्ट करके कोई भी फाइल कॉपी कर सकते हैं, या पेस्ट कर सकते हैं Iphone के लिए उसमें आई-ट्यून इंस्टॉल होना अनिवार्य शर्त है। नए एंड्रोइड फोन को आप डेस्कटॉप की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं, जिसमें आप एक ही स्क्रीन पर कई एप का इस्तेमाल कर लेते हैं। पर iphone में ये सुविधा नहीं है।

आधुनिक आईफोन 6 में भी यह सुविधा नहीं है ।आप अपने फोन से दूर रहकर भी उसका ख्याल रख सकते हैं। अपने डाटा को बचा सकते हैं और पा भी सकते हैं। पर आईफोन के साथ ये सुविधा है ही नहीं।एंड्रोइड यूजर कभी भी, कहीं भी रेडियो से जुड़ सकते हैं। पर आईफोन के यूजर सिर्फ डॉउनलोड किए गानों पर ही निर्भर हैं।ये एंड्रोइड फोन का ब्रह्मास्त्र है। Iphone ये सुविधा ही नहीं देता।अगर आप Iphoneयूजर हैं, तो सिर्फ सफारी ब्रॉउजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। जबकि इंटरनेट को आजादी भी कहते हैं। वहीं, एंड्रोइड फोन आपको किसी भी ब्रॉउजर पर काम करने की आजादी देता है।आईफोन श्रेणी के फोन मौजूदा समय में सबसे बेहतर फोन माने जा रहे हैं। और जिनके पास Iphone नहीं है, वो कहीं न कहीं खुद को कमतर आंकते हैं। पर परेशान न हों, आपके एंड्रोइड फोन में काफी कुछ ऐसा है, जो आपको Iphone में मिलेगा ही नहीं।आप अगर आईफोन इस्तेमाल करते रहे हैं, तो आप इस समस्या को जानते ही होंगे। Iphone  के पुराने मॉडल्स और नए मॉडलों के फोनों में चार्जर का अंतर है। आईफोन सिर्फ अपने ही चार्जर से चार्ज होता है, जबकि एंड्रोइड के साथ ये समस्या नहीं है। एंड्रोइड में चार्जिंग किसी भी चार्जर से की जा सकती है, बशर्ते वो इसमें फिट आता हो।

अधिकतर फोनों में मेमोरी को लेकर समस्याएं आम बात हैं। ऐसे में ओटीजी एंड्रोइड यूजर्स के लिए वरदान की तरह है। वो किसी भी ओटीजी इनेबल्ड पेन ड्राइव को बाहरी मेमोरी के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं, पर आईफोन में ये फीचर नहीं है।कुल मिलाकर आपको अगर फोन खरीदना है तो आईफोन के जगह यह नया एंड्रोइड फोन लीजिये ।

 

loading...
शेयर करें