दिव्य की वापसी के बाद तेज हुई अभिषेक और सूर्यांश के लिए जंग

0

आगरा। दिव्य तो मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद लौट आया लेकिन सूर्यांश और अभिषेक को मुक्त कराने की लड़ाई सड़क से सदन तक लडी जायेगी और इस लडाई को भाजपा विधायक योगेद्र उपाध्याय लड़ने का दावा कर रहे हैं। उन्होंने कानून व्यवस्था के मामले पर करारा हमला करते हुए सपा पर आगरा  अपहरण उद्योग संचालित करने का आरोप लगाया है।

आगरा अपहरण

आगरा अपहरण उद्योग में समा रहे हैं घरों के चिराग

सीएम के हस्तक्षेप के बाद दिव्य की सकुशल घर वापसी हो पायी लेकिन दिव्य की तरह से अभिषेक और सालों से गायब सूर्यांश के परिजन इतने खुशनसीब नहीं रहे क्योकि उनके समर्थन मे आगरा तो लामंबद हुआ लेकिन अफसरों के कानों पर जूं नही रेंगी और उनकी वापसी का रास्ता अब तक अनसुलझा ही है और परिजन मुख्यमंत्री तक खबर पहुंचाने के लिए टकटकी लगाकर इंतजार कर रहे हैं कि उनके घरों के चिराग भी कैसे भी घर बापस लौट आये।

बच्चों के अपहरण के मामले में पुलिस की स्थिति सर्वाधिक लापरवाही की रहती है। पहले तो वह बच्चे के अपहरण को गुमशुदा में दर्ज करते हैं फिर घर वालों से ही उन्हें ढूंढने को कह कर अपना काम खत्म कर देते हैं।

इस मामले पर एक न्यूज चैनल की पहल के बाद राजनीतिक हलकों मे भी हलचल देखने को मिल रही है तो भाजपा मामले मे सबसे आगे खड़ी है। भाजपा विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने अभिषेक और सूर्यांश के बापसी की लडाई को सडक से सदन तक लडने का दावा किया है।
भाजपा विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने अखिलेश सरकार पर सीधे आरोप लगाया है कि प्रदेश मे सपा के संरक्षण मे ही अपहरण उद्योग पनप रहा है और अपराधियों को थानेदार से लेकर अफसरों तक का वरदहस्त प्राप्त है। ऐसे में कानून व्यवस्था कैसे सुधरेगी। इस सवाल को वे सदन मे जरूर उठायेंगे।
भाजपा विधायक का ये बयान अखिलेश सरकार और आगरा पुलिस प्रशासन के लिए मुश्किलें खड़ी करने वाला है तो वहीं अभिषेक और सूर्यांश के परिजनों के लिए सूरज की एक किरण की तरह से नजर आ रहा है।

loading...
शेयर करें