आगरा बस हाईजैक करने वाला मास्टरमाइंड प्रदीप गुप्ता पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तार

लखनऊ। आगरा बस हाईजैक मामलें में यूपी पुलिस को एक बड़ी कामयाबी मिली है। आगरा पुलिस ने गुरुवार सुबह मुठभेड़ के दौरान प्रदीप गुप्ता को गिरफ्तार किया। बीते दिनों बस को आगरा में 34 सवारियों समेत हाईजैक कर लिया गया था। कोहराम मचाने वाला इस घटना को अंजाम देने वाला मास्टरमाइंड प्रदीप गुप्ता को पुलिस ने पकड़ लिया है। मुठभेड़ के दौरान प्रदीप गुप्ता को गोली लगी है। जबकि उसके साथ रहा एक बदमाश मौके से फरार होने में कामयाब रहा।मुठभेड़ में एक सिपाही को भी गोली लगी है।

प्रदीप गुप्ता को इलाज के अस्पताल में एडमिट कराया गया है। पुलिस प्रदीप गुप्ता से अस्पताल में ही पूछताछ कर रही है। पुलिस के आला अधिकारी और क्राइम ब्रांच की टीम बदमाश से पूछताछ में जुटी हुई है ताकि उसके बाकी साथियों को भी पकड़ा जा सके। बता दें प्रदीप गुप्ता शातिर बदमाश है और कई वारदातों में इसका नाम रहा है। आरटीओ के बड़े दलाल के रूप में उसकी पहचान रही है। वह कई केस के लिए जेल भी जा चुका है।

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि बुधवार को बस हाईजैक की घटना के बाद जब इसका नाम सामने आया तो पुलिस की पांच टीमें गिरफ़्तारी के लिए लगाई गईं थी। वह लगातार लोकेशन बदल रहा था। गुरुवार सुबह पांच बजे के करीब फतेहाबाद थाना क्षेत्र में पुलिस ने उसे घेरा तो वह बाइक से ही फायरिंग करनी शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में उसके पैर में गोली लगी जबकि एक साथ फरार हो गया। इलाज के बाद उससे पूछताछ कर अन्य की गिरफ़्तारी सुनिश्चित की जाएगी।

बता दें, आगरा बस हाईजैक केस में आगरा पुलिस ने 5 से 6 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इन सभी के खिलाफ डकैती और अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। मलपुरा थाना क्षेत्र में दर्ज केस में दो गाड़ियों का भी जिक्र किया गया है, जिससे बदमाश बस को हाईजैक करने के लिए पहुंचे थे। हालांकि अब मास्टरमाइंड के गिरफ्त में आने के बाद से मामले का खुलासा हो जाएगा।

बुधवार की शाम पुलिस ने इटावा के बलराय थाना क्षेत्र के एक ढाबे के पीछे से हाईजैक की गई खाली बस बरामद की थी। बस को आगरा में 34 सवारियों समेत हाईजैक कर लिया गया था। इस घटना ने पुलिस महकमे में हड़कंप मचा दिया था। शुरुआत में कहा गया कि बस को फाइनेंस कर्मचारी किस्तों का भुगतान न होने के चलते ले गए हैं, लेकिन बाद में जानकारी मिली कि इस पूरी घटना का मास्टमाइंड आगरा ग्रामीण इलाके के रहने वाले प्रदीप गुप्ता निकला। बस मालिक और प्रदीप गुप्ता के बीच लेनदेन का विवाद चल रहा था। इसी के चलते बदमाशों ने बस को हाईजैक किया था और पुलिस को गुमराह करने के लिए फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी बता रहे थे

Related Articles