आतंकवाद से जुड़ी रिपोर्ट को लेकर चीन और अमेरिका आमने-सामने

0

बीजिंग। अमरीकी विदेश विभाग की आतंकवाद से जुड़ी खबरों पर चीन नाराज़ है। अलगाववादी संगठन ईस्ट तुर्कमानिस्तान इस्लामिक मूवमेंट को लेकर दोनों देशों के बीच संबंध अच्छे नहीं चल रहे है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग के हवाले से कहा कि उनके देश के संबंध में आतंकवाद पर अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट से चीन असंतुष्ट है। रिपोर्ट को खारिज करते हुए चीन ने कहा है कि संवेदनशील शिनजियांग प्रांत में ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट पर दमनचक्र के बारे में अमरीका ने झूठ बोला है।

आतंकवाद

आतंकवाद से जुड़ी रिपोर्ट क्या बता रही है

रिपोर्ट के मुताबिक कहा गया है कि चीन ने नेशिन्जियांग ऊइगुर स्वायत्तशासी क्षेत्र में धार्मिक रीति-रिवाजों पर सख्त नियंत्रण और प्रतिबंध लगा रखा है। चीन ने देश में ऐसी हिंसक घटनाओं के बारे में जो भी जानकारी दी हैं, जिन्हें वह आतंकवाद मानता है। उनमें भी पारदर्शिता और पर्याप्त सूचना नहीं है। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता का कहा है कि चीन आतंकवाद के खिलाफ चीन-अमेरिका सहयोग के संबंध में की गई गलत टिप्पणी पर खेद व्यक्त करता है।

चीन ने भारत को भी बताया था खतरा

कुछ समय पहले चीन के हवाई क्षेत्र के लिए ‘खतरा’ पैदा करने वाले देशों में भारत का भी नाम था। अमेरिका, जापान, ताइवान और वियतनाम के साथ जोड़ते हुए पीएलए ने अपनी हवाई निगरानी को विस्तार देने तथा तेज गति वाली क्रूज मिसाइलों और नई पीढ़ी के बमवर्षक विमानों के साथ हमले की क्षमता में बढ़ोतरी की पैरवी की थी।

loading...
शेयर करें