पाक के पूर्व विदेश सचिव ने आतंकी बुरहान वानी को लेकर खोली पोल

0

बीजिंग। कश्‍मीर घाटी में भारतीय जवानों ने हिजबुल कमांडर आतंकी बुरहान वानी को मौत के घाट उतारा था। इसको लेकर पाकिस्‍तान ने पूरी दुनिया में हल्ला मचा दिया। इसके बाद पाकिस्‍तान ने बुरहान वानी को शहीद का दर्जा भी दे दिया लेकिन पाकिस्‍तान के पूर्व विदेश सचिव ने अपने देश की पोल खोल दी।

आतंकी बुरहान वानी

पूर्व विदेश सचिव ने आतंकी बुरहान वानी पर खोली पोल

पाकिस्‍तान के पूर्व विदेश सचिव रियाज हुसैन खोखर ने चीन की राजधानी बीजिंग में यह बयान दिया कि पाकिस्‍तान ने भारी दबाव के चलते हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को ‘शहीद’ बताया था।

काला दिवस मनाने के पीछे भी बड़ा दबाव

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबरों को अगर पुख्‍ता माने तो खोखर ने शनिवार को कहा कि कश्मीर घाटी में मारे गए आतंकी की याद में 19 जुलाई को काला दिवस मनाने से जुड़े पाकिस्तान के फैसले के पीछे भी दबाव की राजनीति ही काम कर रही थी।

जनता और मीडिया ने बदला पाक का रुख

रियाज हुसैन खोखर ने कहा कि शुरुआत में इस घटना पर हमारी प्रतिक्रिया सधी हुई थी। वहीं बाद में पाकिस्तान की मीडिया और लोगों के दबाव को देखते हुए सरकार को अपना रुख बदलना पड़ा। मामले से लोगों का इमोशनल जुड़ाव होने लगा था।

हालात संभालना भारत की जिम्मेदारी

उन्होंने कहा कि हमें हालात को हाथ से बाहर कतई नहीं जाने देना होगा। वैसे यह सारा कुछ भारत के स्टैंड पर निर्भर है कि वह मामले से कैसे निपटता है। पाकिस्तान भारत के इस हालात खेलना नहीं चाहता, लेकिन हमारे पास मामले को अंतरराष्ट्रीय समुदाय की नोटिस में लाने की बाध्यता है।

खोखर ने भी फेंका इमोशनल कार्ड

खोखर ने भी आखिर में मामले को भावनात्मक रवैया देने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की तरफ का हर कश्मीरी बुरहान वानी को शहीद मानता है।

आतंकी गतिविधियों के समर्थन जुटाता था बुरहान

भारतीय सेना के साथ मुठभेड़ के दौरान हिजबुल कमांडर आतंकी बुरहान वानी ढेर हो गया। कश्मीर के पढ़े-लिखे नौजवानों को वह कश्मीर की आजादी के नाम पर आतंकी गतिविधियों से जोड़ने और समर्थन जुटाने का काम करता था। बुरहान के मारे जाने के बाद कश्मीर में विरोध प्रदर्शन के दौरान भड़की हिंसा में कई लोगों की जान जा चुकी है। वहीं दो सौ से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।

loading...
शेयर करें