अतिथि शिक्षिका की बिगड़ी तबियत, आमरण अनशन रहा ज़ारी

0

देहरादून। उत्तराखंड में दोबारा नियुक्ति की मांग कर रहे 6214 अतिथि शिक्षकों का आमरण अनशन राजधानी में जारी है। अनशन पर बैठी अतिथि शिक्षिका आरती उनियाल बेहोश हो गयीं। इतना ही नहीं,अस्पताल न जाने की जिद करने लगी। परेड ग्राउंड धरना स्थल पर राजकीय अतिथि शिक्षक संघ की पहल पर कल भी शिक्षकों का आमरण अनशन जारी रहा।

आमरण अनशन

हालांकि सिटी मजिस्ट्रेट ने इसे खत्म कराने के लिए काफी प्रयास भी किये लेकिन वो इसमें विफल रहे। अतिथि शिक्षकों का कहना है कि इस मामले पर उन्हें कोई लिखित आश्वासन नहीं मिला है.उनका यह भी कहना है कि जब तक उनको लिखित आश्वासन नहीं मिलेगा तब तक वो अपना आंदोलन ज़ारी रखेंगे। उधर, दूसरे दिन भी लगातार मसूरी विधायक अतिथि शिक्षकों को समर्थन देने पहुंचे।

 आमरण अनशन ज़ारी रहा

परेड ग्राउंड धरना स्थल पर राजकीय अतिथि शिक्षक संघ की पहल पर शिक्षकों का आमरण अनशन ज़ारी रहा। इस मौके पर पहले मसूरी विधायक गणेश जोशी मौके पर समर्थन देने पहुंचे थे। उन्होंने आश्वासन दिया कि जल्द ही वह मामले में राज्यपाल डा. केके पाल से वार्ता करेंगे। मुख्य सचिव से वार्ता होने के बाद मामले में शिक्षकों के पक्ष में फैसला लेने की सहमति बन चुकी है। वह उनके लिए हर कोशिश करेंगे।
शासन स्तर पर गेस्ट टीचर्स के लिए निर्णय हो गया है
सिटी मजिस्ट्रेट ललित नारायण मिश्र मौके पर पहुंचे और उन्होंने बताया कि शासन स्तर पर गेस्ट टीचर्स के लिए निर्णय हो गया है। इस मामले पर 24 अप्रैल तक प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। हालांकि इस प्रयास पर सिटी मजिस्ट्रेट ने अनशन तुडवाने की कोशिश की लेकिन अतिथि शिक्षिकों ने इनकार कर दिया। कुछ आंदोलन करते शिक्षकों ने हंगामा किया और कहा कि जब तक लिखित आश्वासन नहीं मिल जाएगा ,यह आंदोलन ज़ारी रहेगा।

शिक्षक के स्टार को बढ़ने की मांग
देश में आज भी कई जगह ऐसे हैं जहाँ शिक्षा की कमी है। इसी शिक्षा को अतिथि शिक्षक दूर कर रहे हैं।  अतिथि शिक्षकों का कहना था कि उन्हें कैबिनेट मंजूरी के बाद शासनादेश ज़ारी होने पर नियुक्ति मिली थी। और अब बिना किसी वजह इसे हटाने की कोशिश की जा रही है जो गलत है।

loading...
शेयर करें