RSS की कानपुर में आज बैठक, AIUC ने पूछा – ‘इस्लाम से क्या चाहता है संघ?

0

आरएसएसलखनऊ उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को देखते हुए आरएसएस इस बार प्रचारकों की सालाना बैठक कानपुर में करने जा रहा है। संघ का मानना है कि इस बैठक से होने वाले चुनाव में काफी मदद मिलेगी।

आरएसएस में वापसी करेंगे सुरेश सोनी

मोदी सरकार बनने के बाद आरएसएस से कार्यवाह सुरेश सोनी छुट्टी ले ली लेकिन सह कार्यवाह के पद पर बने रहे। अब जब यूपी चुनाव सामने है। संघ एक बार फिर सुरेश सोनी का बनवास खत्म कर उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंप सकता है, यानि सुरेश सोनी एक बार फिर अपनी सक्रियता दिखा सकते हैं। सुरेश पिछले दो सालों से छुट्टी पर हैं। बता दें कि 2014 में आम चुनावों के परिणाम तक सुरेश सोनी संघ के सबसे सक्रिय अधिकारी थे।

ऑल इंडिया उलेमा काउंसिल ने आरएसएस से पत्र लिखकर पूछा सवाल

इस बीच संघ के प्रचारक बैठक में शामिल होने आए आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से ऑल इंडिया सुन्नी उलेमा काउंसिल ने मिलने का समय मांगा है। ऑल इंडिया सुन्नी उलेमा काउंसिन के लोगों ने रविवार शाम को आरएसएस के बैठक स्थल पर पहुंचकर भागवत मिलने का समय देने के लिए एक पत्र भी उनके कार्यकर्ताओ को दिया। इस पत्र के माध्यम से काउंसिल ने आरएसएस प्रमुख से सवाल पूछे हैं।

आरएसएस से ऑल इंडिया उलेमा काउंसिल ने पूछा ये 6 सवाल

  • आप हम मुसलमानों से कैसा राष्ट्र प्रेम चाहते हैं?
  • धर्म परिवर्तन पर आरएसएस का विचार क्या है?
  • आप इस्लाम के बारे में क्या जानते-समझते है?
  • आरएसएस क्या देश को हिंदू राष्ट्र बनना चाहता है?
  • इस्लाम से संघ क्या चाहता है?
  • आरएसएस भारत को हिंदू राष्ट्र मानता है तो क्या वो हिंदू धर्मग्रंथ के अनुसार देश चालान चाहते हैं?

6 दिनों तक चलेगा ये प्रशिक्षण शिविर

गंगा किनारे आरएसएस के इस बड़े शिविर में प्रांत प्रचारकों का 6 दिनों का प्रशिक्षण शिविर चलेगा। इस कार्यक्रम में संघ के सभी प्रांत प्रचारक और सह प्रांत प्रचारक हिस्सा ले रहे है। प्रांत प्रचारकों की ये बैठक हर 5 साल पर होती जो इस बार तीन दिनों के इस समर ट्रेनिंग कैंप के साथ ही हो रही है।

क्या है शिविर का एजेंडा

संघ प्रमुख मोहन भागवत के अलावा सरकार्यवाह सुरेश सोनी, गोपाल कृष्ण, दत्तात्रेय होसबोले समेत संघ के सभी बड़े अधिकारी इस बैठक में रहेंगे। सोमवार से लगभग 41 प्रांत प्रचारक संघ के इस महाकुंभ का हिस्सा होंगे। जिसमें उनके कामों की समीक्षा की जाएगी। 11, 12 और 13 जुलाई को प्रांत प्रचारकों का प्रशिक्षण वर्ग चलेगा। जबकि 14 और 15 जुलाई को संघ के क्षेत्रीय अधिकारी और अलग-अलग संगठनों के पदाधिकारियों का प्रशिक्षण होगा।

इस 6 दिन के कार्यक्रम में कुल 150 स्वयंसेवक शामिल होंगे। जिसमें 75 सह प्रांत प्रचारक भी होंगे। संघ शिविर का एजेंडा अभी तक साफ नहीं है। लेकिन उत्तर प्रदेश चुनाव के पहले संघ का यह सबसे बड़ा शिविर इस बात की ओर इशारा जरूर करता है कि उत्तर प्रदेश चुनाव शिविर के एजेंडे में प्रमुख रूप से होगा। 16 जुलाई को संघ शिक्षा वर्ग कार्यक्रम होगा जिसमें प्रांत प्रचारक गतिविधियों की जानकारी दी जाएगी।

 

loading...
शेयर करें