बड़ा खुलासा : पाकिस्तान ने कराया था कानपुर रेल हादसा, 150 निर्दोष लोगों की ली थी जान

0

पटना। कानपुर के नजदीक इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना को लेकर एक हैरान करने वाला खुलासा हुआ है। करीब 150 मौतों की वजह बनी यह घटना कोई हादसा नहीं थी, बल्कि सोची समझी साजिश थी जो कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने रची थी। पुलिस ने मंगलवार को कहा कि इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे के अलावा बिहार के घोड़ासाहन स्टेशन के नजदीक पिछले वर्ष मालगाड़ी और यात्री गाड़ी को दुर्घटनाग्रस्त करने की नाकाम साजिश रचने के पीछे भी आईएसआई का हाथ था। इसका खुलासा पुलिस के हत्थे चढ़े मोती पासवान सहित तीन अपराधियों ने किया है।

इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना

इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना की साजिश आईएसआई ने रची थी

पूर्वी चंपारण के पुलिस अधीक्षक जितेंद्र राणा ने कहा कि गिरफ्तार तीन अपराधियों में शामिल मोती पासवान ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया है कि पिछले साल नवंबर में इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना की साजिश आईएसआई ने रची थी। राणा ने कहा कि गिरफ्तार किए गए तीनों अपराधियों- पासवान, उमाशंकर प्रसाद और मुकेश यादव- के आईएसआई से संबंध होने के सबूत भी पुलिस को मिले हैं।

इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) की एक टीम गिरफ्तार किए गए तीनों अपराधियों से पूछताछ कर रही है तथा रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) और राष्ट्रीय खुफिया एजेंसी (एनआईए) को भी उनकी गिरफ्तारी की सूचना दे दी गई है। राणा ने बताया, “पासवान ने बताया कि वह ट्रेन हादसे की साजिश में शामिल था। उसके साथ इस साजिश में शामिल अन्य लोगों में जुबैर और जियाउल भी थे। जुबैर और जियाउल को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया है। पासवान ने दिल्ली से गिरफ्तार दोनों व्यक्तियों की पहचान कर ली है।”

उन्होंने बताया कि मामले से जुड़े तीन अन्य व्यक्तियों को भी नेपाल से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधिकारी ने बताया, “हमें नेपाल पुलिस से सूचना मिली कि आईएसआई ने भारत में आतंकी वारदात को अंजाम देने के लिए गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपियों में से एक बृजकिशोर गिरी का इस्तेमाल किया था।”

loading...
शेयर करें